लखनऊ. दादरी मामले और संघ की शिकायत संयुक्त राष्ट्र से करने के अपने कदम को सपा नेता आजम खान ने सही करार दिया है. आजम ने कहा कि जब बदायूं कांड और बालमजदूरी को यूएन में ले जाया गया तब समाज के ठेकेदार कहां थे ?
 
 
 
आजम ने कहा कि जब पेड़ पर फांसी से लटकती लड़कियों की यूएन में शिकायत की गई और यूएन के महासचिव का खत यूपी के सीएम के पास आया और उन्हें जवाब देना पड़ा उस वक्त समाज के ठेकेदार कहां थे?
 
 
आजम ने कहा कि स्वास्थय के लाखों मामले यूएन में ले जाए गए लेकिन ऐसा करने वालों से किसी ने नहीं कहा कि वह पाकिस्तानी एजेंट हैं  या हिंदूस्तान छोड़ दें. इससे पहले आजम ने दादरी हिंसा को लेकर यूएन में चिट्ठी लिखी है जिसको लेकर वह तमाम विपक्षी दलों के निशाने पर आ गए हैं.