नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस ने आज ई-कॉमर्स वेबसाइट फ्लिपकार्ट विवादों के घेरे में है. आरोप है कि इनमें से कई मोबाइल फोन ई-कॉमर्स वेबसाइट के जरिए बेचे गए हैं. इसके बाद छह लोगों से एक करोड़ रुपये से ज्यादा के स्मार्टफोन बरामद होने के बाद यह नोटिस जारी किया गया है. 
  
इंदिरा गांधी एयरपोर्ट के डीसीपी दिनेश कुमार गुपिता ने बताया कि फ्लिपकार्ट के सीईओ को इस जांच में शानिल होने के लिए नोटिस भेजा गया है. गुप्ता ने आगे कहा, “अभी तक की जांच के आधार पर जो जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक चोर इन स्मार्टफोन्स को फ्लिपकार्ट के जरिए बेच रहे थे. अभी तक 209 स्मार्टफोन की बरामदगी हो चुकी है और अभी जांच जारी है.”‘
 
क्या कहा फ्लिप्कार्ट ने
इस मुद्दे पर फ्लिकार्ट के प्रवक्ता ने सफाई देते हुए कहा, “फ्लिपकार्ट एक डिजीटल मार्केट प्लेस है जिसकी मदद से पूरे देश में ग्राहक और सेलर्स आपस में कनेक्ट होते हैं. हमारे 40,000 से ज्यादा सेलर्स में से सभी के लिए सख्त गाइडलाइंस का पालन करना जरूरी होता है.”
 
फ्लिपकार्ट क् मुताबिक, ”अगर कोई इन गाइडलाइन का उल्लंघन करता है तो हम उसे गंभीरता से लेते हैं. हम जीरो टॉलरेंस पॉलिसी पर काम करते हैं. अगर कोई सेलर चोरी का या नकली सामान बेचता है तो हम उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हैं.”
 
क्या कहना है पुलिस का
पुलिस के मुताबिक दिल्ली स्थित एक लॉजिस्टिक कंपनी ने जुलाई में शिकायत दर्ज करवाई थी हांगकॉंन्ग से आने वाले एक शिपमेंट से 600 महंगे स्मार्टफोन गायब हैं. एयरपोर्ट पर कार्गो इन चार्ज कंपनी और एयरपोर्ट विजीलेंस यूनिट जब इन स्मार्टफोन को खोजने में नाकाम रही तब इस मामले को दिल्ली पुलिस के पास रजिस्टर किया गया.
 
दिल्ली पुलिस ने पूरे मामले की जांच के लिए एक स्पेशल टीम का गठन किया है. पुलिस ने खोए हुए स्मार्टफोन्स के यूज़र्स को मैंगलोर, बेंगलूरु, मुंबई, अहमदाबाद, हैदराबाद, जालंधर, दिल्ली और चंडीगढ़ में ट्रैस किया है.