नोएडा. दादरी के बिसाढ़ा गांव में घर में रखे गौमांस की अफवाह की बाद मारे गए मौहम्मद अखलाक के बेटे सरताज ने कहा है कि वह एक देशभक्त परिवार से है इसलिए उसने एयरफोर्स में जाने का फैसला लिया था.
 
एक निजी चैनल से बातचीत करते हुए कहा है कि उसके परिवार के साथ जो कुछ हुआ है उससे वह सदमे में है. सरताज ने कहा कि हमारे पास कहीं और घर बनाने के लिए पैसे नहीं हैं लेकिन हम यहां से चले जाएंगे.
 
सरताज ने कहा है कि वह अपने परिवार को लेकर चैन्नई लेकर चला जाएगा, भले उसे वहां किराए पर रहना पड़े. मृतक के बेटे ने कहा है कि इस हादसे में उनका भाई अभी जिंदगी और मौत से लड़ रहा है इस हमले ने उनके परिवार की जिंदगी बदल दी है.
 
सरताज ने 2008 में देश की सेवा करने के लिए एयरफोर्स ज्वॉइन की थी और उसका भाई भी एयरफोर्स की तैयारी कर रहा था जो इस समय अस्पताल में भर्ती है.