नई दिल्ली. दिल्ली से सटे नोएडा के दादरी में गोमांस खाने की अफवाह के बाद पीट-पीटकर एक मुसलमान की हत्या कर देने के मामले में ऑल इंडिया मजलिस-ए-एद्देहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असददुद्दीन ओवैसी ने नरेंद्र मोदी पर जोरदार निशाना साधा है. ओवैसी ने दादरी हत्याकांड को सुनियोजित करार देते हुए कि मशहूर गायिका आशा भोंसले के बेटे की मौत पर अफसोस जताने वाले पीएम नरेंद्र मोदी आखिर मोहम्मद अख़लाक़ की हत्या पर क्यों चुप हैं? ओवैसी ने कहा, “मोहम्मद अख़लाक़ को गोमांस के लिए नहीं, उसके मज़हब के लिए मारा गया है.”
 
ओवैसी ने मोदी पर हमला करते हुए, “जब पीएम कहते हैं इंडिया फर्स्ट और सबका साथ सबका विकास, लेकिन जब इस तरह की घटनाएं होती हैं तो इन शब्दों को शब्द ही नहीं रहने देना चाहिए, बल्कि उसपर अमल भी होना चाहिए.” केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा के जरिए इस घटना को हादसा करार दिए जाने पर ओवैसी ने कहा, “ये हादसा नहीं था, ये एक सुनियोजित घटना थी. बाकयदा मंदिर से एलान हुआ. तब जाकर अखलाक को मारा गया.”
 
जब ओवैसी से पूछा गया कि इस हत्या के पीछे किसकी साजिश है, तो एमआईएम नेता ने कहा, “ये उस जेहन की साजिश है, जो सेकुलरिज्म के खिलाफ है. इसके पीछे वो जेहन है जो भाईचारा के खिलाफ है. इसके पीछे वो जेहन है जो भारत के मुसलमानों को शक की निगाहों से देखते हैं. ये गोश्त का हमला नहीं था, मज़हब के नाम पर कत्ल था.” इसके साथ ही ओवैसी ने अखिलेश सरकार पर भी हमला किया. ओवैसी ने कहा कि पुलिस ने गोश्त को जांच के लिए भेजा है, बल्कि होना ये चाहिए कि मारने वालों के दिमाग की जांच होनी चाहिए थी.
 
आपको बता दें कि रविवार की रात ग्रेटर नोएडा के बिसाड़ा गांव में गोमांस पकाने के आरोप में भीड़ ने एक शख्स की हत्या कर दी. गोमांस पकाने का एलान मंदिर के लाउडस्पीकर से किया गया था, जिसके बाद जुनूनी हिंदुओं की भीड़ ने अखलाक के घर पर धावा बोल दिया, दरवाज़ा तोड़कर लोग घर में घुसे, अखलाक को बाहर खींचकर लाया गया और पीट-पीटकर उसकी हत्या करके ही भीड़ ने दम लिया. हालांकि, कुछ हिंदुओं ने भीड़ को रोकने और समझाने की कोशिश भी की, लेकिन उनकी एक न चली. बल्कि भीड़ ने अखलाक के बेटे की भी जमकर पिटाई की, जो अभी अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ रहा है.