नोएडा. दादरी घटना में मंदिर के पुजारी ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि उससे जबरन गाय कटने का ऐलान कराया गया था. मंदिर के पुजारी महंद सुखदास का कहना है कि गोमांस की बात लाउडस्पीकर उनसे जबरन कहलवाई गई है.
 
 
पुजारी ने कहा कि गाय कटने की घोषणा उन्होंने की थी लेकिन उनसे यह बात जबरदस्ती गांव के ही दो लड़कों ने कहलवाई  थी. पुजारी ने कहा कि रात में दो लड़कों ने उनसे गाय कटी होने का ऐलान करने के लिए कहा था.
 
इससे पहले दादरी के बिसाड़ा गांव में मौहम्मद अखलाक नाम के शख्स को भीड़ ने  उसके घर में गौमांस रखे होने की अफवाह पर पीट-पीट कर जान से मार दिया था. भीड़ ने मृतक अखलाक के 22 साल का बेटे दानिश की भी पिटाई की जिसके कारण उसे गंभीर रुप से चोट आई हैं.
क्या है मामला ?
गौतमबुद्ध नगर के डीएम एनपी सिंह ने बताया कि स्थानीय लोगों ने अफवाह फैला दी कि अखलाक के घर में गाय का मीट रखा हुआ है और वह गोवध में शामिल रहा है. गांववालों के मुताबिक, 16 सितंबर को बिसारा गांव में एक बछड़ा गायब हो गया था.
 
सोमवार को बछड़े के शरीर के टुकड़े अखलाक के घर के करीब मिलने की अफवाह फैली. अफवाहों के मुताबिक, अखलाक एक पॉलीथिन में बीफ लेकर जा रहा था कि तभी कुत्ते उसके पीछे पड़ गए. इसके बाद, उसने वो पॉलीथिन वहीं फेंक दी.
 
 
जांच में साफ मृतक के घर में रखा मांस, गौमांस नहीं-
गौतमबुद्धनगर डिस्ट्रिक एडमिनिस्ट्रेशन ने साफ़ कर दिया है कि उसके घर पर बीफ (गोमांस) नहीं दूसरा मांस रखा था. गौतमबुद्धनगर के डीएम एनपी सिंह के मुताबिक अखलाक के घर के फ्रिज में रखे मांस की जांच कराई गई. जांच में पता चला कि वह बीफ नहीं है. 
 
 
पुलिस ने किया 6 लोगों को गिरफ्तार-
पुलिस ने दस लोगों के खिलाफ दंगे और मर्डर का मामला दर्ज किया है. इनमें से छह को गिरफ्तार किया जा चुका है. ये सभी लोग गांव के ही हैं.
 
घटना पर राजनीतिक बयानबाजी-
मोदी सरकार में ससंकृति मंत्री और गौतमबुद्धनगर से बीजेपी के सांसद महेश शर्मा के बयान पर भी विवाद होना शुरू हो गया है. महेश शर्मा का कहना है कि ये मामला सिर्फ एक हादसा है और इसे सांप्रदायिक रंग देना ग़लत है. महेश शर्मा ने कहा, “ये घटना कुछ ग़लतफहमियों की वहज से हुई. इसके लिए जो भी जिम्मेदार हो, उसे सजा मिलनी चाहिए.