नई दिल्ली. दादरी में अखलाक नाम के व्यक्ति को गाय का मांस खाने की अफवाह के बाद पीट-पीट कर मार देने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. मोदी सरकार में ससंकृति मंत्री और गौतमबुद्धनगर से बीजेपी के सांसद महेश शर्मा के बयान पर भी विवाद होना शुरू हो गया है. महेश शर्मा का कहना है कि ये मामला सिर्फ एक हादसा है और इसे सांप्रदायिक रंग देना ग़लत है.
  
महेश शर्मा ने कहा, “ये घटना कुछ ग़लतफहमियों की वहज से हुई. इसके लिए जो भी जिम्मेदार हो, उसे सजा मिलनी चाहिए. इस घटना पर कांग्रेस के प्रवक्ता ने कुछ कहा है, समाजवादी पार्टी ने कुछ कहा है. लेकिन ये मामला सांप्रदायिकता से जुड़ा हुआ नहीं है.” मोदी के मंत्री का तर्क है कि घटना के दौरान सिर्फ एक शख्स को निशाना बनाया गया, जबकि पीड़ित परिवार के अगल बगल में भी दो-तीन घर हैं और गांव के बाहर में भी 10-12 परिवारों के घर हैं, लेकिन उन्हें नुकसान नहीं पहुंचाया गया, जिससे साफ है कि ये सुनियोजित नहीं है और इसे सांप्रदायिक रंग देना सही नहीं है.”
 
आपको बता दें कि रविवार की रात ग्रेटर नोएडा के बिसाड़ा गांव में गोमांस पकाने के आरोप में भीड़ ने एक शख्स की हत्या कर दी. हत्या के बाद इलाके में कुछ हिंसा हुई, लेकिन अब हालात शांतिपूर्ण हैं. मृतक के परिवार का आरोप है कि गोमांस पकाने के आरोप झूठे हैं. इलाके में अशांति फैलाने के लिए कुछ लोगों ने झूठी अफवाह फैलाई.