दादरी. गौमांस खाने और घर में रखने की अफवाह पर भीड़ द्वारा पीट-पीट कर मारे गए दादरी के मौहम्मद अखलाक की बेटी ने कहा है कि अगर गौमांस वाली बात सच साबित नहीं हुई तो क्या वो मेरे पिता को वापस ले आएँगे? कल दादरी के बिसारा गांव में घर में गौमांस रखे होने की अफवाह के बाद  भीड़ ने घर में घुसकर अखलाक और उनके 22 साल के बेटे दानिश की बेरहमी से पिटाई की थी.
 
 
दानिश अभी नोएडा के सरकारी अस्पताल में गंभीर हालत में भर्ती है. घटना में अपने  पिता को खो चुकी  दानिश की बहन सजदा  सदमे है उसका कहना है कि उसने अपने पिता को खो दिया है लेकिन वह अपने भाई को नहीं खोना चाहती है.
 
 
सजदा ने अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्स्प्रेस  से बात करते हुए कहा है कि करीब 100 लोगों की भीड़ ने उनके पिता और भाई को घर से बाहर घसीटकर उन पर ईंटों से हमला किया. हमले में दानिश के सर और छाती में चोट आई हैं.
 
मृतक की बेटी को भी दी गई जान से मारने की धमकी-
 
सजदा ने कहा है कि भीड़ ने उनसे पुलिस को ना बुलाने की बात कहके उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी. पीड़ित परिवार कई पीढ़ियों से बिसारा गांव में रह रहा था. सजदा ने कहा है कि जब भी उनके घऱ में कोई समारोह हुआ है दूसरे संप्रदाय के लोग इसमें शामिल हुए हैं. पीड़ित परिवार का कहना है कि फ्रिज में मटन रखा हुआ था. उन्होंने कहा कि मंदिर में ऐलान हूआ भी नहीं था कि भीड़ ने उनके घर पर हमला कर दिया. 
 
 
पुलिस ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया-
एक वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि हमने पाया है कि लोगों ने उन्‍हें इसलिए पीटा कि उन्‍होंने गाय का मांस खाया था. मामले में अभी और लोग गिरफ्तार किए जाएंगे. पुलिस ने इस केस में अभी तक 6 लोगों को गिरफ्तार किया है.
 
फोटो- साभार इंडियन एक्सप्रेस