सूरत. रेप के मामले में सजा काट रहे आसाराम की मुसीबतें थमने का नाम ही नहीं ले रही हैं. गुरूवार को सूरत जिला प्रशासन ने आसाराम आश्रम को 17 करोड़ रूपए चुकाने का नोटिस जारी किया है. यह नोटिस आश्रम को सरकारी जमीन का गलत उपयोग करने के बदले में दिया गया है. इसके तहत 1996 से 2010 तक 15 फीसदी जमीन के उपयोग के 17 करोड़ रुपए मांगे गए हैं. 
 
क्या है मामला ?
यदि फाइन 30 दिनों में नहीं चुकाया जाता है तो प्रशासन की ओर से कानूनी कार्रवाई की जाएगी.  मामला यह है कि जहांगीरपुरा आश्रम में ब्लॉक नंबर 141 और 142 वाली 34,400 वर्ग मीटर जमीन है.  सिंचाई विभाग की ओर से इस जमीन पर पाला निर्माण योजना के तहत अधिग्रहण किया गया था. इसके बाद भी इस जमीन पर आसाराम ने औषधालय, मंदिर और गौशाला का निर्माण कराया.