चेन्नई. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डॉ. मनमोहन वैद्य का मानना है कि धर्मनिरपेक्षता भारत के लिए गैरजरुरी है. मनमोहन ने विवादित बयान देते हुए कहा है कि भारत के राष्ट्रीय झंडे में सिर्फ ‘भगवा’ रंग होना चाहिए बाकि सारे रंग सांप्रदायिकता फैलाते है.
 
 
अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक  वैद्य ने यह बात धर्मनिरपेक्षता पर हो रहे सेमिनार में की. संघ द्वारा आयोजित सेमिनार में वैद्य ने कहा कि धर्मनिरपेक्षता का विकास चर्च के विभाजन के साथ हुआ था. उन्होंने कहा कि भारत का इतिहास थियोक्रेटिक स्टेट का कभी नहीं रहा है और धर्मनिरपेक्षता भारत के लिए गैर जरुरी है