नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को 12वीं बार लोगों से ‘मन की बात’ की. मन की बात के दौरान मोदी ने कहा कि लोगों की शक्ति पर उनका भरपूर विश्वास रहा है. उन्होंने कहा, ‘इस कार्यक्रम से जरिए मैंने लोगों से बहुत-कुछ हासिल किया है. ‘मन की बात’ कार्यक्रम में अपील करने के बाद देश के 20 लाख लोगों ने गैस सब्सिडी छोड़ दी है. उन्होंने इसे ‘साइलेंट रिवॉल्यूशन’ यानि मूक क्रांति करार दिया.

पीएम मोदी ने कहा कि पिछले साल की तुलना में खादी से बने कपड़ों की बिक्री दोगुना बढ़ चुकी है. ये खादी को बढ़ावा देने की अपील का ही नतीजा है.उन्होंने कहा कि ‘मेरे लिए देशवासियों के फोन कॉल बेहद मायने रखते हैं. इतनी ज्यादा संख्या में कॉल से मैं उत्साहित हूं. लोगों की बातें नई ऊर्जा पैदा करने वाली और सकारात्मक होती हैं. कम ही शिकायत करते हैं

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की फैमिली से मिलेंगे मोदी

पीएम मोदी ने मन की बात के दौरान कहा कि ‘आने वाले अक्टूबर महीने में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की फैमिली के 50 से ज्यादा मेंबर्स पीएम आवास पर आ रहे हैं. मैं उनका स्वागत करने को लेकर उत्सुक हूं।

पीएम के मन की बात के मुख्य बातें

मन की बात से मुझे बहुत कुछ मिला. जन शक्ति अपार होती है. मन की बात से मुझे पूरे देश से सुझाव मिलते हैं.

जनता-जनार्दन ईश्वर का अंश होता है। #SelfiWithDaughter, #IndredibleIndia कैंपेन को काफी सराहना मिली. लाखों लोगों ने मेरे इस कैंपेन को सफल बनाया.

खादी को बढ़ावा मिला, गरीब के घर चूल्हा चलाने के लिए देश के 30 लाख लोगों ने गैस सब्सिडी छोड़ी.

पूरे देश के 55 हजार लोगों ने मुझे कॉल करके मैसेज दिए हैं. राजस्थान के अलवर के पवन आचार्य अपने मैसेज में कहा- दिवाली पर ज्यादा से ज्यादा मिट्टी के दिए चलाएं. ऐसे ही छोटे-छोटे बदलावों से गरीब के घर में उजाला होगा.

1965 भारत-पाक युद्ध की शौर्यांजलि प्रदर्शनी देख कर सेना पर गर्व महसूस हुआ. आधे घंटे के लिए गया, लेकिन 2 से ढाई घंटे रुका. लोगों से अपील करता हूं कि लोग एक बार इस प्रदर्शनी को जरूर देखें. इतिहास हमें अपनी जड़ों से जोड़ता है. इतिहास से अगर नाता छूट जाता है, तो इतिहास बनाने की संभावनाओं को भी पूर्ण विराम लग जाता है.

 महात्मा गांधी की जयंती पर एक खादी का कपड़ा जरूर खरीदें. खादी उद्योग से गरीब के घर में पैसा पहुंचेगा. दिवाली पर खादी और हैंडलूम की चीजें खरीदने पर जोर देना चाहिए.