नई दिल्ली. राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार पर एक आईपीएस ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि उनके ऊपर दंगाईयों को छोड़ने और बेकसूर मुस्लिमों पर फर्जी केस करने का जबरदस्त तरीके से दबाव था.  अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक पूर्व एसपी पंकज चौधरी ने खुलासा किया है कि पिछले साल राजस्थान के सितंबर में नैनवा और खानपुर में एक मस्जिद को इस बेबुनियाद आधार पर नुकसान पहुंचाया गया था कि मंदिर की मूर्तियों को किसी ने अपवित्र किया है.
 
पंकज ने कहा कि सब कुछ पहले से ही तय था कि कौन किस पर हमला करेगा और कौन तोड़फोड़ करेगा.  उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर उन पर दबाव बनाया जाने लगा और वरिष्ठ पुलिस अधिकारयों ने उनसे कहा कि दंगाईयों को छोड़ दिया जाए और मुस्लिमों पर फर्जी केस बनाए जाएं. पूर्व आईपीएस ने कहा कि  उन्होंने जब यह काम करने से मना कर दिया तो सरकार ने पिछले साल 21 सितंबर को उन्हें पद से हटा दिया. 
 
पंकज चौधरी के आरोपों पर सरकार का जवाब ?
राजस्थान सरकार के गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने कहा है कि वह कुछ भी कहने के लिए आजाद हैं लेकिन यदि उनकी तरफ से कुछ भी आधिकारिक रुप से मिलता है तो इसकी जांच कराई जाएगी.