नई दिल्ली. दिल्ली में डेंगू की चपेट में आने से तीन और लोगों को जान गंवानी पड़ी है, जिसमें सात साल एक लड़का शामिल है. इन ताजा आंकड़ों से राष्ट्रीय राजधानी में डेंगू से मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर 13 हो गई है, जबकि दिल्ली के अस्पतालों में डेंगू मरीजों की बड़ी संख्या आज भी कायम रही.
  
दिल्ली सरकार ने सभी चिकित्सा संस्थानों को निर्देश दिया है कि वे जल्द से जल्द बिस्तरों की संख्या बढ़ाएं और हालात से निपटने के लिए डॉक्टरों और नर्सों की भर्ती करें. दक्षिण दिल्ली में रहने वाली 41 साल की एक महिला और 14 साल के एक लड़के की कल ही मौत हुई थी जबकि सात साल के लड़के ने आज दम तोड़ा . लाजपत नगर की रहने वाली मोनिका बहल ने कल मूलचंद अस्पताल में दम तोड़ दिया था. डेंगू शॉक सिंड्रोम के कारण मोनिका के अंगों ने काम करना बंद कर दिया था जिसकी वजह से उनकी मौत हुई. 
 
सात साल के लड़के ने आज यहां के बी एल कपूर अस्पताल में दम तोड़ा जबकि 14 साल के एक लड़के ने महाराज अग्रसेन अस्पताल में डेंगू के कारण दम तोड़ दिया. ज्यादातर अस्पतालों में डेंगू मरीज बड़ी संख्या में भर्ती हैं. कुछ अस्पतालों में मरीज बेहद बुरी हालात में रहने को मजबूर हैं. कुछ सरकारी अस्पतालों में तो आलम यह है कि एक ही बिस्तर पर तीन-तीन मरीजों को रखा गया है. डेंगू मरीजों के इलाज से इनकार करने वाले अस्पतालों पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी देने वाली दिल्ली सरकार ने अपने मातहत आने वाले सभी अस्पतालों को डॉक्टरों और नर्सिंग कर्मचारियों की भर्ती करने का आदेश जारी किया है.