मुंबई. मीट बैन के फैसले पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से सवाल किया कि जब आप अहिंसा की बात करते हैं तो आपने मछली, सी फूड और अंडों को भी बैन क्यों नहीं किया? इस पर राज्य सरकार का जवाब था कि मछली अपने आप मरती है.
 
 
 
राज्य सरकार के वकील ने तर्क दिया कि मछली को जब पानी से निकालते हैं तो ही वह मरती है इस प्रकार उसकी हत्या जैसी गतिविधि इसमें शामिल नहीं है. इससे पहले बीएमसी ने आज मीट बैन को 4 दिन से घटाकर दो दिन कर दिया है.