नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मेक इन इंडिया’ अभियान के मद्देनजर देश की सबसे बड़ी सहकारी संस्था इफको ने जापानी कंपनी मित्सुबिशी के साथ मिलकर भारत में ही एग्रोकेमिकल्स बनाने के लिए एक संयुक्त उद्यम कंपनी बनाने का करार किया है.
 
ज्वाइंट वेंचर कंपनी का नाम “इफको-एम सी क्रॉप साइंस प्राइवेट लिमिटेड” होगा जिसमें 51फीसदी हिस्सेदारी इफको और 49 फीसदी मित्सुबिशी की. यह कंपनी भारत में उच्च गुणवत्ता वाले एग्रोकेमिकल्स का उत्पादन करेगी.
 
नई दिल्ली स्थित इफको मुख्यालय में इफको अध्यक्ष बलविंदर सिंह नकई और मित्सुबिशी कॉरपोरेशन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के सीएमडी मसाकाज़ु सकाकीडा ने नई कंपनी के लोगो को जारी किया.
 
इफको अध्यक्ष नकई ने इस मौके पर कहा कि देश भर के किसान हमसे निरंतर मांग करते रहे हैं कि सहकारी समितियों के जरिए इफको जिस तरह उच्च कोटि के उर्वरक मुहैया कराती है उसी तरह वह उत्तम गुणवत्ता वाले कीटनाशक, फफूंदनाशक  और खरपतवारनाशक भी उपलब्ध कराए.
 
इफको के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. यूएस अवस्थी ने इस करार पर खुशी ज़ाहिर करते हुए कहा कि इस संयुक्त उद्यम के जरिए इफको एग्रोकेमिकल्स व्यापार में कदम रख रही है. उन्होंने कहा कि इफको देश के किसानों को लेकर अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करना चाहती है. डॉ. अवस्थी ने कहा कि इससे पूरे कृषि क्षेत्र और खासकर किसानों की सेवा का दायरा बढ़ेगा.
 
देश के उर्वरक बाजार में इफको की मजबूत पकड़ है वहीं एग्रोकेमिकल क्षेत्र के अंतरराष्ट्रीय कारोबार में मित्सुबिशी का दबदबा है. इनके हाथ मिलाने से भारत के किसानों को भी उचित दर पर बढ़िया एग्रोकेमिकल्स उपलब्ध कराने में मदद  मिलेगी.