नई दिल्ली. भारत और पाकिस्तान के बीच होने जा रही राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की वार्ता पर विदेश मंत्री ने साफ कर दिया है कि भारत बातचीत रद्द नहीं करेगा. सुषमा ने कहा कि वार्ता में सिर्फ आतंक पर बात होगी.
 
उन्होंने कहा आतंकवाद के साथ कोई समझौता नहीं होगा. विदेश मंत्री ने कहा कि भारत बातचीत में किसी तीसरे पक्ष को मंजूर नहीं करेगा. सुषमा ने कहा.’ भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाली हर बातचीत वार्ता नहीं है. भारत-पाकिस्तान के बीच वार्ता के लिए 8 गंभीर मसले शामिल होते हैं जिनमें कश्मीर और आतंकवाद शामिल हैं.’
 
 
प्रेस कॉन्फ्रेस में सुषमा ने कहा,’ पाकिस्तान ने हमेशा कश्मीर की बात करनी चाही, कंपोजिट डायलॉग को नहीं अपनाया.  आतंकवाद और बातचीत एक साथ नहीं हो सकती.’ सुषमा ने कहा कि हमने ऊफा में बातचीत के 13 दिन पाकिस्तान को NSA वार्ता के लिए चिट्ठी भेजी और  पाकिस्तान ने हमें 22 दिनों बाद चिट्ठी का जवाब दिया.