नई दिल्ली. सेंट स्टीफन कॉलेज के प्रिंसपल वालसन थम्पू ने कहा, ‘मैं दाऊद इब्राहिम हूं, इसलिए मुझे परेशान किया जा रहा है.’ शोध की छात्रा के उत्पीड़न मामले में उन पर ‘जिस तरीके से हमला’ किया जा रहा है उसे लेकर दुख जताते हुए उन्होंने यह बात कही. शोध की छात्रा ने आरोप लगाए थे कि कॉलेज के रसायन विभाग के सहायक प्रोफेसर सतीश कुमार ने उसका उत्पीड़न किया. उसने यह भी दावा किया कि थम्पू कुमार को बचा रहे हैं और शिकायत वापस लेने के लिए उस पर दबाव बनाया था.
 
थम्पू ने कहा, ‘मैं दाऊद इब्राहिम हूं. अगर दूसरे लोग मेरी छवि खराब करने को आजाद हैं… तो मैं भी खुद को काफी खराब छवि वाला पेश करने को आजाद हूं… इसमें निहित स्वार्थ वालों के साथ ही मीडिया का भी समर्थन हो सकता है.’ उन्होंने कहा, ‘इस सिलसिले में मेरी सोच दाऊद इब्राहिम से आगे नहीं बढ़ती, क्योंकि वह सबसे खराब छवि का आदमी है. मैंने जो कहा है या जो कहता हूं उस पर कायम हूं. मैं कायर नहीं हूं जो हर चीज को मीडिया की ‘अक्षमता’ से जोड़ दूं. हां, मैं दाऊद इब्राहिम हूं.’
 
आपको बता दें कि विवाद को देखते हुए छात्रों का एक हिस्सा, कॉलेज के पूर्ववर्ती छात्र और महिला अधिकार समूह उनके इस्तीफे की मांग कर रहे हैं. वहीं दिल्ली महिला आयोग ने थम्पू, आरोपी प्रोफेसर और शोध की छात्रा को बुधवार को तलब किया था और तीन घंटे लंबी चली बैठक में विस्तार से मुद्दे पर चर्चा हुई.
 
थम्पू ने कहा कि ‘मामले में उन्हें जानवर की तरह घसीटा जा रहा है, मानो वह उत्पीड़न करने वाले हैं.’ डीसीडब्ल्यू की सुनवाई में मौजूद होने से पहले उन्होंने फेसबुक पर सुझाव मांगे कि ‘क्या उन्हें डीसीडब्ल्यू के समक्ष अपना चेहरा ढंककर आना चाहिए जैसा उत्पीड़न करने वाले और बलात्कार करने वालों का चेहरा ढंककर फोटो खींचा जाता है.’
एजेंसी