देहरादून. उत्तराखंड में मसूरी स्थित प्रतिष्ठित लाल बहादुर शास्त्री प्रशासन अकादमी में एक महिला के फर्जी आइएएस बनकर वहां छह महीने तक अनधिकृत रूप से रूकने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. पुलिस के अनुसार अकादमी के अधिकारियों को रूबी चौधरी नाम की इस महिला के फर्जी आइएएस होने का पता उसके अकादमी से जाने के बाद चला. महिला के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. एकेडमी में इस महिला ने फर्जी दस्तावेज तैयार कर खुद को आईएएस अधिकारी बताया और अकादमी में लाइब्रेरी कर्मचारी की हैसियत से छह महीने तक अनाधिकृत रूप से निवास करती रही.

सितम्बर, 2014 से लेकर मार्च, 2015 तक अकादमी में रहने के दौरान आरोपी महिला परिसर में घूमने के अलावा लाइब्रेरी व अन्य जगहों पर भी आती-जाती थी. पुलिस ने बताया कि महिला के खिलाफ धोखाधड़ी के लिए भारतीय दंड विधान की धाराओं 420, 467, 468, 471 और 170 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. अब पुलिस यह पता लगाने में जुटी है कि आरोपी महिला का अकादमी में घुसने का मकसद क्या था और उसके द्वारा बताया गया नाम भी असली था या नहीं.

IANS