नई दिल्ली : आज लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे पर सुबह 10 बजे दुनिया का सबसे बड़ा माल वाहक विमान हरक्युलिस सी-130 लैंड हुआ. उसके बाद एक्सप्रेस वे पर सुखोई, जगुआर विमान भी उतरे. इन विमानों में से AN 32 ने आगरा से, जगुआर ने गोरखपुर से, मिराज ने ग्वालियर से, सुखोई ने बरेली से और C130J ने हिंडन से उड़ान भरी थी. इस विमान के लैंड करते ही गरुड़ कमांडो उतरे और उन्होंने पूरे एक्सप्रेस वे को अपने कब्जे में ले लिया. उत्तरप्रदेश के 302 किमी लंबे आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर मंगलवार को गरुड़ कमांडो की देखरेख में वायु सेना के 16 जगुआर, मिराज, सुखोई, सी-130 लड़ाकू विमानों ने अभ्यास किया. 
 
तैयारियों में लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे एयरस्ट्रिप का रूप दिया गया. जिसके लिये जरूरी मार्किंग की गई है. एक्सप्रेस-वे के छोटे से छोटे गढ्ढो को सीमेंट और मसाले से भरा गया है. एक्सप्रेस-वे की स्ट्रिप पर ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट हरक्युलिस सी-17 की भी लैंडिंग किए जाने की बात भी कही जा रही है. इस टच डाउन के दौरान कई बार विमानों को एक्सप्रेस-वे पर उतारा जाएगा. पहला टच डाउन सुबह दस बजे किया जाएगा. कानपुर से लखनऊ के बीच एक्सप्रेस-वे पर ट्रैफिक बंद होने से एक्सप्रेस-वे पर आने वालों के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की गई है. इस दौरान वाहनों के लिये वैकल्पिक व्यवस्था की गई है. आगरा से आने वाले वाहन कानपुर के अरौल में एक्सप्रेस-वे से नीचे उतर जाएंगे.
 
सुबह 10 बजे से लेकर दोपहर दो बजे तक सुपरसोनिक जेट सुखोई, जगुआर, मिराज और मालवाहक विमान हरकुलिस यहां टेक ऑफ और लैंडिंग करेंगे. इस दौरान गरुड़ कमांडो फोर्स के जवान भी अपनी ताकत दिखाएंगे. इस ऑपरेशनल एक्सरसाइज का संयोजन बीकेटी एयरफोर्स के ग्रुप कप्तान जे सुआरस करेंगे. वहीं मध्य एयर कमान मुख्यालय के सीनियर एयर स्टाफ एयर मार्शल एएस बुटोला विमानों की लैंडिंग और टेक ऑफ का अवलोकन करेंगे. इस अवसर पर यूपीडा के सीईओ अवनीश अवस्थी समेत तमाम अधिकारी उपस्थित रहेंगे.वायु सेना के अधिकारियों के मुताबिक एक्सप्रेस वे पर बनी हवाई पट्टी चीन से किसी खतरे के मामले में वायु सेना के लिए काफी मददगार साबित हो सकती है. विमानों की लैंडिंग के पहले धूल रोकने के लिए हवाई पट्‌टी की धुलाई के साथ आसपास भी पानी का छिड़काव कराया गया है.