गांधीनगरः गुजरात विधानसभा चुनाव बेहद करीब हैं. गांधीनगर में अल्पेश ठाकुर की ओर से आयोजित ‘नवसर्जन गुजरात जनादेश’ रैली में राहुल गांधी शामिल हुए. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को गांधीनगर में जनादेश रैली के दौरान केंद्र और राज्य सरकार पर जमकर हल्ला बोला. राहुल गांधी ने नोटबंदी, जीएसटी को केंद्र सरकार की विफलता बताया. किसानों के मुद्दे पर राहुल गांधी ने राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा. राहुल गांधी ने जीएसटी को गुड्स एंड सर्विस टैक्स नहीं बल्कि गब्बर सिंह टैक्स बताया. राहुल ने पीएम नरेंद्र मोदी को भी नोटबंदी के दौरान किया गया उनका वादा दिलाया. राहुल ने कहा, पीएम मोदी ने नोटबंदी के दौरान कहा था कि अगर नोटबंदी फेल हो जाती है तो मुझे किसी चौराहे पर फांसी दे देना. नोटबंदी कर सरकार ने पूरे देश का पैसा जब्त किया. राहुल ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह को लेकर भी पीएम पर करारा जुबानी हमला किया. आइए आपको बताते हैं, राहुल गांधी की गांधीनगर रैली की 10 बड़ी बातें:
 
1- रैली में राहुल गांधी ने अपने भाषण की शुरुआत जय माता दी, जय सरदार, जय भीम के नारे से की. यहां रैली में राहुल गांधी ने छोटी बच्ची के हाथों रोटी, प्याज़ और मिर्च खाई. वहीं अल्पेश ने बताया कि उन्होंने राहुल को गुजरात का गुड़ दिया है.
 
2- सरकार ने नैनो बनाने के लिए एक कंपनी को 35 हजार करोड़ रुपए दिए. इतनी रकम में गुजरात के किसानों का कर्ज माफ हो जाता. यह सरकार किसानों की नहीं बल्कि उद्योगपतियों के हितों के बारे में सोचती है.
 
3- मोदी जी मन की बात करते हैं लेकिन आज मैं उन्हें गुजरात के लोगों की मन की बात सुनाना चाहता हूं. मोदी सरकार का मेक इन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया फेल हो गया.
 
4- पाटीदार नेता नरेंद्र पटेल के खरीद-फरोख्त खुलासे पर राहुल गांधी ने कहा, बीजेपी पैसे के दम पर गुजरात की जनता को खरीदना चाहती है. मोदी जी आप गुजरात में चाहे जितना पैसा लगा दो, लेकिन इनकी आवाज को आप खरीद नहीं सकते, दबा नहीं सकते. गुजरात की जनता सब जानती है, इस बार वह ऐसे लोगों को सबक सिखाएगी.
 
5- नोटबंदी लागू कर मोदी जी ने खुद अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारी, उन्हें खुद नहीं समझ आया क्या हुआ. कुछ दिनों बाद उन्हें इसका एहसास हुआ.
 
6- देश में हर काम श्रेय मोदी जी खुद लेने लगते हैं लेकिन मैं बताना चाहूंगा कि जनता की शक्ति से ही सारा काम होता है. किसी को भी इसका श्रेय लेने का हक नहीं.
 
7- ये सरकार देश में गरीब किसानों का नहीं, सिर्फ अमीरों का कर्ज माफ कर रही है. सरकार ने बड़े कारोबारियों के करोड़ों रुपए के कर्ज माफ कर दिए. सरकार ने किसानों की आवाज नहीं सुनी, कहां गए 35 हजार करोड़ रुपए?
 
8- युवा मोदी सरकार से तंग हैं, अब ये शांत नहीं रह सकते. मोदी जी से परेशान युवा अब शांत नहीं होंगे.
 
9- यहां पिछले 22 सालों से गुजरात की जनता की सरकार नहीं, बस 5-6 उद्योगपतियों की सरकार चल रही है. गुजरात की सभी यूनिवर्सिटीज़ पर चंद उद्योगपतियों का ही कब्जा है. शिक्षा के लिए गुजरात का युवा कॉलेज में पैसा नहीं दे पाता.
 
10- पूरे गुजरात में आंदोलन चल रहा है. राज्य के सभी युवा किसी न किसी आंदोलन से जुड़े हैं. जीएसटी लागू होने के बाद गुजरात के व्यापारी वर्ग ने सरकार के खिलाफ कई दिनों तक प्रदर्शन किया था.