अहमदाबाद : गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले सोमवार को बीजेपी को दो बड़े झटके लगे हैं. पाटीदार नेता हार्दिक पटेल का साथ छोडकर बीजेपी में शामिल हुए दो पाटीदार नेताओं ने बीजेपी पर गंभीर आरोप लगाते हुए घर वापसी की है. आज सुबह पाटीदार नेता नरेंद्र पटेल ने बीजेपी पर उन्हें खरीदने के लिए 1 करोड़ की पेशकश का आरोप लगाते हुए बीजेपी छोड़ी थी. नरेंद्र रविवार को ही बीजेपी में शामिल हुए थे. लेकिन उसके कुछ देर बाद ही एक और पाटीदार नेता निखिल सवानी ने भी एक बड़ा धमाका करते हुए बीजेपी पर गंभीर आरोप लगाते हुए पार्टी छोड़ने का ऐलान कर दिया. इस दौरान प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए निखिल ने कहा कि बीजेपी विधानसभा चुनावों से पहले पाटीदार नेताओं की खरीद-फरोख्त में लगी है. निखिल ने नरेंद्र पटेल को मुबारकबाद देते हुए कहा कि उन्हें खुशी है कि नरेंद्र फिर से छोटी से पाटीदार परिवार का हिस्सा बन गए.
 
इससे पहले सोमवार सुबह नरेंद्र पटेल ने कल मीडिया के सामने आकर पांच सौ के नोटों की गड्डियां दिखाईं और आरोप लगाया कि बीजेपी ने उन्हें 10 लाख रुपए दिए हैं. नरेंद्र पटेल का दावा है कि बीजेपी में शामिल होने के लिए उन्हें एक करोड़ रुपये देने की पेशकश की गई थी, जिसमें से दस लाख रुपये उन्हें मिल चुके हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी में शामिल हुए हार्दिक के सबसे बड़े करीबी वरुण पटेल के जरिए ये पैसा दिया गया था. उन्हें 10 लाख रुपए एडवांस के तौर पर दिए गए और बाकी के 90 लाख रुपए सोमवार को मिलने वाले थे.
 
नरेंद्र पटेल के इन आरोपों का जवाब देते हुए वरुण ने कहा है कि अगर इतने पैसे देने की बात हुई है तो नरेंद्र पटेल ने पूरी रकम लेने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस करना चाहिए थी. बता दें कि नरेंद्र पटेल यह सारे आरोप लगाने के कुछ घंटों पहले ही बीजेपी में शामिल हुए थे लेकिन अब उसी पर खरीद फरोख्त के आरोप लगा रहे हैं. पाटीदार अनामत समिति (पास) के संयोजक नरेंद्र पटेल रविवार (22 अक्टूबर) को हार्दिक पटेल के पू्र्व साथी वरुण पटेल के सामने बीजेपी में शामिल हुए थे. वरुण पटेल भी रविवार को ही बीजेपी में शामिल हुए थे. नरेंद्र पटेल ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने उन्हें वरुण पटेल के माध्यम से उसमें शामिल होने पर एक करोड़ रुपये देने का वादा किया था. 
 
वहीं वरुण पटेल ने इन आरोपों से इनकार किया है. गुजरात में 18 दिसंबर से पहले चुनाव होने हैं क्योंकि उस दिन गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधान सभा चुनाव के नतीजे आने की चुनाव आयोग पहले ही घोषणा कर चुका है. पाटीदार समाज के दो नेता रेशमा पटेल और वरुण पटेल पहले ही BJP में शामिल हो चुके हैं. जबकि ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर ने कांग्रेस में शामिल होने का ऐलान किया है. वहीं हार्दिक पटेल ने बीजेपी को हराने के लिए कांग्रेस को सशर्त समर्थन देने की बात कही है.