नई दिल्ली : कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने राजस्थान सरकार के अध्यादेश को लेकर राज्य की सीएम वसुंधरा राजे पर निशाना साधा है. वसुंधरा सरकार ऐसा अध्यादेश लाने जा रही है जिसमें किसी भी जज, मजिस्ट्रेट या लोकसेवक के खिलाफ सरकार से मंजूरी लिए बिना किसी तरह की जांच नहीं की जाएगी. राहुल गांधी ने इसी अध्यादेश को लेकर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर निशाना साधा है. राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा है ‘मैडम चीफ मिनिस्टर, हम 21वीं सदी में रह रहे हैं. यह साल 2017 है, 1817 नहीं.’ कांग्रेस के होने वाले राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं वर्तमान उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने अधिकारिक ट्विटर हैंडल पर ट्वीट कर राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर निशाना साधा है.
 
बता दें राजस्थान में सोमवार से शुरु हो रहे विधानसभा सत्र में सरकार एक ऐसा बिल ला रही है, जिसके तहत किसी भी सरकारी कर्मचारी, जज और पूर्व जज के खिलाफ शिकायत या फिर मामला दर्ज कराना अब आसान नहीं होगा. नौकरशाहों के खिलाफ शिकायत या एफआईआर दर्ज कराने के लिए पहले सरकार की परमिशन लेनी होगी. इस अध्यादेश के अनुसार कोई भी लोकसेवक अपनी ड्यूटी के दौरान लिए गए निर्णय पर जांच के दायरे में नहीं आ सकता है, सिवाय कोड ऑफ क्रिमिनल प्रोसिजर 197 के.  वहीं किसी लोकसेवक के खिलाफ कोई भी एफआईआर दर्ज नहीं करा सकता.
 
वहीं, सरकार का तर्क है कि इससे सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों को बेवजह परेशान करने से निजात मिलेगी, जबकि विपक्ष ने इसे भ्रष्टाचार को संरक्षण देने वाला कदम करार दिया है. राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार ने एक अध्यादेश जारी कर दंड प्रक्रिया संहिता व भारतीय दंड संहिता में संशोधन किया है, जिसके तहत राज्य सरकार की मंजूरी के बिना शिकायत पर जांच के आदेश देने और जिसके खिलाफ मामला लम्बित है, उसकी पहचान सार्वजनिक करने पर रोक लगा दी गई है.
 
उधर, आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास ने भी प्रस्तावित अध्यादेश को लेकर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर प्रहार किया. आप नेता कुमार विश्वास ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की तुलना उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जॉन्ग से कर दी है. उन्होंने मुख्यमंत्री राजे के लिए ‘महारानी’ शब्द का प्रयोग करते हुए कहा है कि ‘…महारानी वसुंधरा ये अभी भूल नहीं पाई हैं कि राजतंत्र खत्म हो चुका है, अब लोकतंत्र है. इसके बावजूद वसुंधरा सरकार इस तरह का फरमान जारी कर किम जॉन्ग की तरह काम कर रही है.’