नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश के अयोध्या में बुधवार को त्रेता युग जैसी दिवाली का नजारा देखने को मिला. आसमान से हो रही पुष्पवर्षा, शंखनाद और मंत्रोच्चार के बीच प्रतीक रूप में भगवान राम पुष्पक विमान की तरह हेलीकॉप्टर से उतरे तो अयोध्या के सरयूतट पर जगमगाते असंख्य दीपों ने मानो त्रेता युग को जीवंत कर दिया. दीपावली के मौके पर सरयू के नयाघाट पर एक लाख 87 हजार दीप प्रज्ज्वलित किये गये. रोशनी से जगमग राम की पैड़ी के सुन्दर, मोहक और भव्य स्वरुप का ऐसा मंजर अयोध्या वासियों के साथ-साथ पूरी दुनिया ने शायद पहली बार देखा. सरयू घाट पर करीब 14 हजार लीटर तिल के तेल से 1.87 लाख दीप जलाए गए. एक साथ इतने दीप जलने का रिकॉर्ड गिनीज बुक में दर्ज हो गया है. 
 
हेलीकॉप्टर से उतरे राम, सीता और लक्ष्मण की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल राम नाईक ने आरती उतारी और अगवानी की. सायंकाल सरयूतट पर लेजर शो के जरिए राम के प्रसंग उभरे और फिर आसमान में आतिशबाजी की चकाचौंध में राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री योगी ने सरयू के तट पर 21-21 दीप जलाकर आरती को नदियों की संस्कृति बचाने के अभियान से जोड़ा. अयोध्या में दीपोत्सव कार्यक्रम में राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्याभिषेक समारोह को संबोधित करने के बाद राम की पैडी पर पहुंचकर दीपक जलाये. दोनों ने 51 हजार बत्तियों के साथ वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच सरयू नदी की आरती भी की. इस मौके पर सुरक्षा के व्यापक बन्दोबस्त किये गये थे.
 
इससे पहले, रामकथा पार्क में हेलीकाप्टर से पहुंचे भगवान राम, सीता और लक्ष्मण का पात्रों का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वागत वंदन किया और फिर श्री राम का राज्याभिषेक किया गया। एक हेलीकाप्टर ने पुष्पवर्षा की. इससे पहले योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में स्वदेश दर्शन योजना के तहत 133.30 करोड रुपये के विकास कार्यों तथा परियोजनाओं का शिलान्यास किया गया. प्रधानमंत्री आवास योजना समेत कई योजनाओं के स्वीकृति पत्रों का वितरण किया गया.