मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने यह कहकर सबको चौंका दिया है कि याकूब के जनाजे में जुटी भीड़ के पीछे गैंगस्टर्स का हाथ था. फड़नवीस ने कहा कि याकूब मेमन के जनाजे में गैंगस्टर्स के कहने पर भीड़ आई थी. बता दें कि 1993 मुंबई सीरियल ब्लास्ट के दोषी याकूब मेमन को 30 जुलाई को नागपुर सेंट्रल जेल में फांसी दी गई थी. मेमन के परिवार ने मुंबई में उसका शव दफनाया था. माहिम में उसके घर के बाहर से जब जनाजा निकला तो करीब 8 से 10 हजार लोग पहुंचे थे.

क्या बोले CM फड़नवीस
सीएम ने कहा कि जब याकूब का शव मुंबई एयरपोर्ट पर पहुंचा तो उस वक्त कोई भी मौजूद नहीं था, लेकिन हो सकता है कि कुछ (फरार) गैंगस्टर्स ने लोगों को उसके जनाजे में जाने के लिए कहा हो. बता दें कि साउथ मुंबई में मेमन के जनाजे के लिए मुंबई पुलिस ने कड़ा सुरक्षा इंतजाम किए थे. पूरी मुंबई में पुलिस समेत सेंट्रल फोर्सेस के 35 हजार जवानों को तैनात किया गया था.

टाइगर की धमकी से इनकार 
सीएम फड़नवीस ने मीडिया की उन खबरों को खारिज किया, जिनमें कहा गया था कि याकूब की फांसी वाले दिन टाइगर मेमन ने अपनी मां हनीफा को फोन किया था. फड़नवीस ने कहा कि इसमें कोई सच्चाई नहीं है. बता दें कि ऐसी खबरें आई थीं कि टाइगर मेमन ने अपनी मां को फोन कर भाई याकूब की फांसी का बदला लेने की कसम खाई थी.