दाभोई : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने 67वें जन्मदिन के मौके पर सरदार सरोवर बांध का उद्घाटन किया. बांध के उद्घाटन के बाद जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इस बांध के निर्माण में विश्व बैंक ने भी रुकावटें पैदा की थी. उसने भी पैसा देने से इंकार कर दिया था. तब गुजरात ने मंदिरों ने बांध के निर्माण के लिए पैसा दिया था.
 
इस मौके पर पीएम ने कहा कि सरदार पटेल अगर होते तो उन्हें बहुत खुशी होती कि उनका सपना पूरा हुआ है. उन्होंने कहा कि इस बांध के खुलने के बाद नागरिकों और किसानों को फायदा मिलेगा और करोड़ों किसानों का भाग्य बदल देगा.
 
बांध पर सवाल उठाने वालों पर कटाक्ष करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हम पर अनाश शनाप आरोप लगाए गए. हमने हमेशा इसको राजनीतिक विवाद से बचाने की कोशिश की. सबने राजनीति की और मुश्किलें खड़ी करने की कोशिश की.  
 
 
इससे पहले पीएम मोदी ने गुजरात के साधु बेट में सरदार वल्लभ भाई के पटेल के बन रहे ‘स्टेचू ऑफ यूनिटी’ का जायजा लिया. जायजा लेने के बाद पीएम दभोई पहुंचे हैं, जहां पीएम ने लोगों को संबोधित किया.
 
बता दें कि सरदार सरोवर बांध दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा बांध है. यह नर्मदा नदी पर बना 138.68 मीटर ऊंचा और 1210 मीटर लंबा बांध है. बता दें कि नर्मदा नदी पर बनने वाले बांधों में यह एक बड़ी परियोजन थी, जिससे बनकर तैयार होने में 56 सालों का लंबा वक्त लग गया.