गुरुग्राम : CBSE ने गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल को कारण बताओ नोटिस जारी किया है. नोटिस जारी करके बोर्ड ने पूछा है कि उसकी मान्यता वापस क्यों नहीं ली जाए. सीबीएसई के नोटिस में कहा गया है कि लड़के की मौत को टाला जा सकता था अगर स्कूल अधिकारियों ने कर्तव्यों को जिम्मेदारी, देखभाल और ईमानदारी से निभाया होता. CBSE की जांच रिपोर्ट में रेयान स्कूल की तरफ से बड़ी लापरवाही का खुलासा हुआ है. CBSE ने स्कूल के प्रबंधन को भेजे गए नोटिस में पंद्रह दिन के भीतर इसका जवाब देने को कहा है.
 
गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल के बाथरूम में कक्षा दो के छात्र प्रद्युम्न ठाकुर की आठ सिंतबर को हत्या कर दी गई थी. मामले की जांच के लिए सीबीएसई ने दो सदस्यों की कमेटी गठित की थी. कमेटी ने बुधवार को स्कूल का मुआयना किया था. इसकी रिपोर्ट कमेटी ने सीबीएसई को सौंप दी है. सीबीएसई ने नोटिस में कहा है कि बच्चे की हत्या स्कूल की कई सुरक्षा खामियों की वजह से हुई है.
 
 
जांच समिति ने कहा कि स्कूलों में ड्राइवरों, कंडक्टरों और सफाईकर्मियों के लिए कोई अलग शौचालय नहीं था और वे छात्रों एवं कर्मचारियों के लिए बने शौचालय का इस्तेमाल कर रहे थे. समिति ने स्कूल परिसर में पर्याप्त संख्या में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे होने का भी संज्ञान लिया और कहा कि लगे हुए ज्यादातर कैमरे काम नहीं कर रहे थे.
 
बता दें कि रेयान स्कूल में सात साल के बच्चे की हत्या के बाद CBSE ने इस मामले की जांच के लिए पिछले हफ्ते 2 मेंबर की एक कमेटी का गठन किया था. कमेटी ने कहा है कि घटना पर गौर करने के बाद रेयान इंटरनेशनल को घोर लापरवाही का दोषी पाया गया है.