पंचकूला: दो साध्वियों के साथ रेप के आरोप में 20 साल के लिए जेल में बंद गुरमीत राम रहीम सिंह के खिलाफ शनिवार को दो मामलों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पंचकूला की विशेष सीबीआई कोर्ट में पेश हुआ. राम रहीम पर डेरा मैनेजर रंजीत हत्या और पत्रकार छत्रपति हत्या में शामिल होने का आरोप है और इसी मामले में आज सुनवाई हुई.
 
इस बीच राम रहीम के ड्राइवर रहे खट्टा सिंह ने ये कहकर उसकी मुश्किलें और बढ़ा दी हैं कि वो छत्रपति केस में उसके खिलाफ बयान देंगे. 2012 में खट्टा अपने बयान से पलट गए थे. उन्होंने कहा कि वो डर गए थे. बाबा के गुंडे उनके बेटे को मरवा सकते थे. खट्टा ने कहा है कि वो बाबा का सच पहले कोर्ट को बताएंगे फिर बाहर बताएंगे. राम रहीम को उसके किए की सजा मिलनी चाहिए.
 
 
किसी भी प्रकार के अप्रिय घटना से बचने के लिए पुलिस ने पूरे इलाके में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. प्रशासन ने पंचकूला में अर्धसैनिक बलों और हरियाणा पुलिस की टुकड़ियों को तैनात किया गया है. अदालत ने 22 सितंबर को अगली सुनवाई तय कर दी है. इसी दिन कोर्ट तय करेगा कि खट्टा सिंह गवाही दे सकेंगे या नहीं.
 
 
रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड क्या है ?
पत्रकार रामचंद्र छत्रपति ‘पूरा सच’ नाम से अखबार छापते थे. रामचंद्र छत्रपति ने ही पहली बार अपने अखबार में पीड़ित साध्वी की चिट्ठी छापी थी. चिट्ठी में राम रहीम पर बलात्कार का आरोप लगाया था. 24 अक्टूबर 2002 में डेरा के 2 शूटर ने छत्रपति की हत्या कर दी. हत्या का एक आरोपी मौके पर ही पकड़ा गया, दूसरा बाद में गिरफ्तार हुआ. राम रहीम के इशारे पर रामचंद्र छत्रपति की हत्या का आरोप लगा है.
 
 
रंजीत सिंह हत्याकांड क्या है ?
राम रहीम पर डेरा प्रबंधक रंजीत सिंह की हत्या का आरोप है. रंजीत सिंह की हत्या 10 जुलाई 2003 को हुई थी. रंजीत सिंह की बहन से राम रहीम ने बलात्कार किया था. राम रहीम का करीबी रंजीत सिंह रेप की बात जानता था. राज़ दबाने के लिए राम रहीम पर हत्या करवाने का आरोप है.