नई दिल्ली. डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देते हुए रेलवे ने एक अहम फैसला लिया है. अब रेल यात्रा के दौरान अगर आपके पास पहचान पत्र के तौर पर आधार घर पर छूट गया है तो आप अपने मोबाइल से एम-आधार भी दिखा सकते हैं.
 
रेल यात्रा के दौरान पहचान पत्र के तौर पर रेलवे ने एम-आधार की वैधता की अनुमति दे दी है. अगर आप टीसी को एम आधार दिखाएंगे तो यह पूरी तरह से वैध माना जाएगा. बता दें कि अब तक यात्रियों का आधार कार्ड या कोई अन्य पहचान पत्र ले जाना अनिवार्य था. 
 
बता दें कि कुछ समय पहले सरकार ने डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने के उद्देश्य से UIDAI के बैनर तले मोबाइल बेस्ड एप्लीकेशन एम-आधार ऐप को लॉन्च किया है. बुधवार को सरकार ने कह दिया कि यात्रा के दौरान एम आधार को पहचान पत्र के तौर पर वैध माना जाएगा. 
बता दें कि mAadhaar मोबाइल ऐप है जो कि अभी केवल एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म पर काम करता है. इस ऐप को डाउनलोड करने और रजिस्टर करने के बाद आपको अपने साथ पेपर-फॉर्मेट में या किसी और प्रकार से आधार कार्ड या संख्या लेकर चलने की जरूरत नहीं है.
 
 
रेलवे ने ये भी कहा है कि एम आधार ट्रेन के किसी भी आरक्षित क्लास में पहचान पत्र के तौर पर मान्य होगा. मंत्रलाय ने कहा है कि कोई भी व्यक्ति टीसी को जब ये दिखायेगा तो उसके द्वारा ये स्वीकार्य होगा. 
 
बता दें कि एम आधार में नाम, जन्मतिथी, जेंडर और व्यक्ति के फोटोग्राफ के साथ-साथ पता भी होता है, जो कि आधार नंबर से लिंक होता है. इसे इस्तेमाल में लाने के लिए यूजर को यूआईडीएआई से मोबाइल नंबर को रजिस्टर्ड करने की जरूरत है. जब ये प्रक्रिया पूरी हो जाएगी तब यूजर एप्प पर अपना डिटेल डाउनलोड कर पाएगा.