नई दिल्ली: दिल्ली विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में बीजेपी की छात्रसंघ इकाई अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को तगड़ा झटका लगा है. चार साल बाद अध्यक्ष पद पर कांग्रेस पार्टी की स्टूडेंट विंग एनएसयूआई के रॉकी तुशीद ने जीत दर्ज की है वहीं उपाध्यक्ष पद पर भी एनएसयूआई के कुनाल सहरावत जीत की ओर बढ़ रहे हैं. वहीं बीजेपी की स्डूटेंड विंग ABVP ने सचिव और संयुक्त सचिव पद पर जीत दर्ज की है. सचिव पद पर ABVP की महामेधा नागर ने जीत दर्ज की है. 
 
दिल्ली में लगातार अपनी राजनीतिक जमीन खो रही कांग्रेस के लिए निश्चित तौर पर ये बड़ी जीत मानी जाएगी. चार साल के लंबे इंतजार के बाद डीयू छात्रसंघ चुनाव में अध्यक्ष पद पर एनएसयूआई उम्मीदवार की जीत हुई है. वहीं बीजेपी की बात करें तो ये जरूर पार्टी संगठन के लिए चिंता की बात है. ABVP के हाथ से दो बड़े पद यानी अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद का निकल जाना अच्छा संकेत नहीं है वो भी तब जब दिल्ली में चुनावी सरगर्मियां शुरू हो चुकी है. इससे पहले जेएनयू छात्रसंघ चुनाव में भी एबीवीपी की हाथ कुछ नहीं लगा था.
 
हालांकि कांग्रेस को भी जेएनयू में कुछ नहीं मिला लेकिन कांग्रेस ने डीयू में दो महत्वपूर्ण पद जीतकर डैमेज कंट्रोल कर लिया है. पहले दिल्ली विधानसभा और फिर एमसीडी चुनाव हारने के बाद डीयू में दो महत्वपूर्ण पदों पर जीत दर्ज निश्चित तौर पर NSUI और कांग्रेस कार्यकर्ताओं को नई उर्जा प्रदान करेगी.