पोखरण : पहली बार भारतीय सेना में शामिल होने जा रही अमेरिका की एम 777 हॉवित्जर तोप हादसे का शिकार हो गई है. राजस्थान के पोखरण फील्ड रेंड में इस तोप के ट्रायल के दौरान गन बैरल फट गया. इस हादसे के बाद इस तोप का परीक्षण रोक दिया गया. घटना दो सितंबर की है. बैरल फटने की वजहों की जांच सेना और अमेरिकी कंपनी की संयुक्त टीम मिलकर कर रही है.
 
अमेरिकी कंपनी बीएई की बनाई गई इस तोप से 2 सितंबर को राजस्थान के पोखरण में परीक्षण किया जा रहा था, तभी इसका बैरल फट गया. सैन्य सूत्रों के मुताबिक, फायरिंग के दौरान बैरल के परखच्चे उड़ गए. हालांकि इस हादसे में कोई घायल नहीं हुआ है.
 
 
भारतीय सेना ने अमेरिका से 145 हॉवित्जर तोपों के लिए करार किया था. इनमें 25 तोपें बनी-बनाई खरीदी जाएंगी. शेष तोपों को बीएई सिस्टम्स और उसकी सहयोगी कंपनी महिंद्रा डिफेंस की ओर से भारत में ही असेंबल किया जाएगा. इन तोपों के लिए पिछले साल नवंबर में भारत और अमेरिका के बीच लगभग पांच हजार करोड़ रुपये का सौदा हुआ था. इन तोपों की रेंज 30 किलोमीटर की है. ये तोपें खासकर ईस्टर्न फ्रंट में चीन के खिलाफ सेना की ताकत को काफी मजबूती देगी. इनको चीन के साथ ईस्टर्न बॉर्डर के पहाड़ों पर तैनात किया जाएगा.  
 
बता दें कि अमेरिका से हुए करार के तहत भारत को 145 M777 होवित्जर तोप मिलने वाली है. इसमें से दो तोप मई में भारत आई थीं. राजस्थान के पोकरण फायरिंग रेंज में होवित्ज़र तोप से भारतीय गोलों की क्षमता को भारतीय सेना और अमेरिकी कंपनी के अफसर परख रहे थे. इस बीच गन बैरल फट गया.