नई दिल्ली : हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने प्रद्युम्न के पिता को मामले की सुनवाई से ठीक पहले फोन करके यह आश्वासन दिया है कि वो जिस जांच से संतुष्ट होंगे, सरकार वह जांच कराने को तैयार है. यह बात खुद प्रद्युम्न के पिता ने सीएम खट्टर से बात करने के बाद इंडिया न्यूज़ से कही है.
 
हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रद्युम्न के पिता जिस जांच से संतुष्ट होंगे सरकार वो जांच कराने को तैयार है. उन्होंने कहा कि अगर वह सीबीआई जांच चाहते हैं तो सरकार उसके लिए भी तैयार है.
 
दरअसल प्रद्युम्न के पिता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर हत्या के मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की है. पिता की मांग है कि पूरे मामले की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में सीबीआई से जांच की जाए.
 
प्रद्युम्न के पिता के वकील के मुताबिक सवाल किया गया है कि इस पूरे मामले में अब तक स्कूल प्रबंधन के खिलाफ करवाई क्यों नही की गई. पिता ने याचिका में कहा कि एसआईटी की जांच सिर्फ स्कूल की लापरवाही पर है, लेकिन इस हत्या का सच सामने नहीं आया कि मेरे बच्चे की हत्या के पीछे कौन है और क्यों मारा. इस मामले का कोई भी आरोपी बचना नहीं चाहिए.
 
याचिका में क्या कहा गया ?
 
– प्रद्युम्न के पिता ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल अपनी याचिका में कहा है कि देश के सभी स्कूलों के मैनेजमेंट की जवाबदेही, देनदारी और जिम्मेदारी तय की जाए.
– भविष्य में स्कूल के भीतर बच्चों के साथ किसी भी तरह की घटना होती है तो मैनेजमेंट , डायरेक्टर, प्रिंसिपल, प्रमोटर सबके खिलाफ लापरवाही बरतने के आरोप के तहत करवाई हो.
– याचिका में ये भी कहा गया है कि इस तरह की घटना होने से स्कूल की मान्यता या लाइसेंस रद्द किया जाए.
– सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में एक कमीशन बनाया जाए जो स्कूलों को लेकर सिफारिश दे.
– इस पूरे मामले की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में सीबीआई या SIT से जांच कराई जाए.
– प्रद्युम्न के परिवार के सुरक्षा के लिए कोर्ट दिशा निर्देश जारी करे.
 
इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज दोपहर 2.45 बजे से सुनवाई शुरू हो गई है. वहीं रविवार को प्रद्युम्न के पिता के प्रेसवार्ता कर कहा कि मैं इसलिए सुप्रीम कोर्ट कर रहा हूं ताकि कोर्ट की दखल के बाद इनसे पूछताछ हो, ऐसा कैसे हो सकता है कि कंडक्टर के पास हथियार हो और टॉयलेट में मौजूद हो.