मुंबई. 1993 मुंबई बम धमाके का मास्टरमाइंड टाइगर मेमन ने अपने भाई याकूब मेमन की मौत का बदला लेने की धमकी दी है. अंग्रेजी अखबार ‘इकोनॉमिक टाइम्स’ ने मुंबई पुलिस के हवाले से ये दावा किया है. अखबार के मुताबिक 30 जुलाई को याकूब की फांसी से डेढ़ घंटे पहले टाइगर मेमन ने मुंबई में अपने परिवार को फोन किया था. 

पढ़िए टाइगर मेमन और उसकी मां के बीच हुई पूरी बातचीत-

सुबह के 5 बजकर 35 मिनट पर टाइगर मेनन का फोन याकूब मेनन के घर उनके लैंडलाइन पर आता है. एक अज्ञात शख्स याकूब के घर से फोन उठाता है

टाइगर- सलाम वालेकुम, हैलो
अज्ञात– वालेकुम सलाम भाई
टाइगर– अम्मी जागी हैं क्या
अज्ञात– वो रात भर सोईं नहीं 
टाइगर-   बात कराओ
 (इसके बाद 30 सेकंड का पॉज हो जाता है. अज्ञात कोडलेस फोन लेकर टाइगर की अम्मी के रुम में जाता है. जहां अज्ञात किसी से कहता है कि ‘भाईजान का फोन है’ अज्ञात रुम के अंदर एंट्री लेता है और कहता है भाईजान बात करेंगे. वह फिर दोबारा कहता है भाईजान बात करेंगे.)

टाइगर की मां हनीफा मेनन फोन पिक करतीं हैं…
 

टाइगर– सलाम वालेकुम, अम्मी खैरियत
टाइगर-  सलाम वालेकुम, अम्मी खैरियत
(हनीफा मेनन की रोने की आवाज आती हैं 35 सेंकड तक वो सिसकी लेती हैं)
 

टाइगर- जुल्म की इंतहा हो गई,  जाया नहीं जाएगा.. ये सब जाया नहीं जाएगा

(हनीफा मेनन फिर से रोने लगती हैं)
टाइगर-मैं उनको चुकवाऊंगा
हनीफा– बस हो गया, पहले की वजह से मेरा याकूब गया अब और मैं नहीं देख सकती, मैं नहीं देख सकती. मैं नहीं देख सकती.

हनीफा मेनन रोने लगती है. अज्ञात फिर से फोन खुद ले लेता है
अज्ञात– भाई
टाइगर- उसको संभालो, उसको संभालो
अज्ञात- वो अभी बात नहीं करेंगी. वो अभी रो रही हैं. सब रो रहे हैं..
टाइगर- सबके आंसू जाया नहीं जाएंगे, सबका ख्याल रखो
अज्ञात– दुआ पढ़ो भाई
(फोन कट जाता है.)
 

नोट– एडिशनल चीफ सेकेट्ररी केपी बख्शी ने कहा है कि टाइगर के कथित फोन के बारे में उन्हें जानकारी नहीं है. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के डीजीपी और ना ही केंद्रीय एजेंसियों ने इस तरह की जानकारी दी है.