लखनऊ : यूपी पुलिस ने फर्जी तरीके से आधार कार्ड बनाने वाले एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश हुआ है. पुलिस ने इस मामले में 10 लोगों को गिरफ्तार किया है. गिरोह का सरगना सौरभ सिंह भी यूपी एसटीएफ के हत्थे चढ़ गया है. पुलिस के अनुसार गिरोह यूआईडीएआई द्वारा निर्धारित बॉयोमेट्रिक मानकों को बाइपास करके फर्जी आधार कार्ड बनाने के काम को अंजाम दे रहा था. यूपी एसटीएफ ने गिरोह के पास से 18 फर्जी आधार कार्ड के अलावा कई प्रकार के उपकरण बरामद किए हैं.
 
यूपी एसटीएफ के अनुसार इस गिरोह का सरगना सौरभ सिंह, शिवम, तुलसीराम, कुलदीप और चमन यूआईउीएआई में पहले बतौर ऑपरेटर काम कर चुके हैं. सूत्रों के मुताबिक सौरभ बीसीए कर रहा है.
 
एसटीएफ के आइजी अमिताभ यश ने बताया कि गिरोह के सदस्य प्रदेश के कई शहरों में अनाधिकृत रूप से UIDAI के बायोमेट्रिक मानकों को बाईपास करके फर्जी आधार कार्ड बना रहे थे. UIDAI के डिप्टी डायरेक्टर ने लखनऊ के साइबर थाने में इस बारे में प्राथमिकी दर्ज कराई थी. जांच में सामने आया कि कानपुर के विश्व बैंक कॉलोनी, बर्रा थाना निवासी सौरभ सिंह इस गिरोह का मास्टर माइंड है.
 
 
बता दें कि पिछले दिनों एसटीएफ को जानकारी मिली थी कि प्रदेश के कई शहरों में टैंपर्ड क्लाइंट एप्लिकेशन के माध्यम से फर्जी आधार कार्ड बनाए जा रहे हैं. इस जानकारी पर यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) के उप निदेशक ने साइबर क्राइम थाना लखनऊ में केस दर्ज कराया था. इसके बाद पुलिस और एसटीएफ की टीम इस गिरोह के जालसाजों की तलाश में जुट गई.