देहरादून: अपनी पत्नी अनुपमा गुलाटी की हत्या कर उसके 72 टुकड़े करने वाले हैवान पति राजेश गुलाटी को कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. गौरतलब है कि 12 दिसंबर 2010 तो दोविंदगढ़ इलाके के प्रकाश विहार में ये घटना घटी थी. अनुपमा की हत्या का आरोप उसके पति पति राजेश गुलाटी पर लगा था.
 
पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर राजेश गुलाटी पर आरोप था कि उसने अपनी पत्नी अनुपमा की पहले हत्या की और फिर उसकी लाश के 72 टुकड़े कर उसे फ्रीजर में रख दिया. इसके बाद धीरे धीरे वो लाश के टुकड़ों को मसूरी के जंगलों में ठिकाने लगा रहा था.
 
पुलिस के मुताबिक अनुपमा की हत्या 17 अक्टूबर 2010 को की गई थी. लेकिन मर्डर का खुलासा 12 दिसंबर 2010 को हुआ. पुलिस के मुताबिक अनुपमा ने अपने परिवार की मर्जी के खिलाफ जाकर राजेश से लव मैरेज किया था लेकिन शादी के कुछ दिनों बाद से ही दोनों में झगड़ा शुरू हो गया. 
 
 
मामला सामने आने के बाद पूरे देश सन्न रह गया था. लोगों को भरोसा नहीं हो रहा था कि कोई पति अपनी ही पत्नी के साथ ऐसी क्रूरता कैसे कर सकता है. करीब 7 साल चली सुनवाई के बाद कोर्ट ने पिछली तारीख पर राजेश गुलाटी को दोषी करार दिया था और आज यानी 1 सितंबर को कोर्ट ने सजा सुनाने की तारीख रखी थी.