नई दिल्ली. मध्य प्रदेश के हरदा जिले में मंगलवार देर रात दो रेलगाड़ियां पटरी से उतरने की वजह बांध में क्षमता से अधिक  पानी का हो जाना था. मिली जानकारी के अनुसार  निकटवर्ती बांध में क्षमता से अधिक पानी हो जाने के कारण पटरी पर अचानक पानी आ गया और इसी कारण ट्रेनें पटरी से उतर गईं इस हादसे में कई यात्रियों की मौत हो गई थी.

अब तक 27 शव बरामद किए जा चुके हैं. रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने मध्यप्रदेश के हरदा में हुए दो ट्रेन हादसों को प्राकृतिक आपदा बताया है. उन्होंने कहा, ‘प्राकृतिक आपदा के आगे किसी का बस नहीं चलता. हम सब बेबस हैं.’
 
हादसे पर पीएम मोदी ने जताई संवेदना, मुआवजे का ऐलान

हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संवेदनाएं व्यक्त की हैं. पीएम मोदी ने कहा है कि पूरे हालात पर नजर रखी जा रही है और मौके पर हरसंभव मदद दी जा रही है. रेलवे के पीआरओ अनिल सक्सेना ने इंडिया न्यूज को बताया कि ट्रैक के धंसने से ये हादसा हुआ है.  दो सौ से ज्यादा लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है और राहत कार्य जोरों से चल रहा है.

रेल हादसे पर सियासत शुरू, दिग्विजय ने मांगा प्रभु का इस्तीफा

 हरदा में हुए भीषण रेल हादसे के बाद कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने रेल मंत्री सुरेश प्रभु का इस्तीफा मांगा हैं. दिग्विजय ने ट्वीट करके कहा, ‘ये क्या हो रहा है मिस्टर प्रभु, हम तो आपको एक अच्छे मंत्री के रुप में जान रहे थे, क्या मैं आपको याद दिला सकता हूँ कि लाल बहादुर शास्त्री ने एक ट्रेन एक्सीडेंट के बाद अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया था.’