नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (BJP) के मंत्री ने गोरखपुर हादसे को साजिश करार दिया है. मोदी सरकार में परिवार कल्याण राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने रविवार को कहा कि इतने बड़े हादसे के पीछे किसी की साजिश हो सकती है. उन्होंने आगे कहा कि अगर आप 9 से 12 अगस्त के बीच आकंडे देखें तो कुछ साफ समझ में आ जाएगा. परिवार कल्याण राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने आगे कहा कि 9 अगस्त से पहले की मौतों और 9 से 12 अगस्त के बीच हुई मौतों के आंकड़ों को देखें तो साफ रूप से समझ आएगा कि जो दबाव है उस दबाव के कारण मौतें हुई हैं. हालांकि मंत्रीजी ने यह साफ नहीं किया कि वह किस दबाव की बात कर रहे थे.
 
बता दें कि गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में पिछले पांच दिनों के अंदर 63 बच्चों की मौत हो गई है, जिसकी वजह से पूरे जिले में हाहाकार मचा हुआ है. 32 मौते तो पिछले 48 घंटों में ही हुई हैं, उससे पहले भी तीन दिन के अंदर ही 28 बच्चों ने दम तोड़ दिया था. हालांकि प्रशासन इस बात को मानने से इनकार कर रहा है कि ये मौंते ऑक्सीजन की कमी से हुई हैं. गोरखपुर के BRD मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के बाद अस्पताल प्रशासन पर कार्रवाई शुरू हो गई है. सीएम योगी के दौरे के बाद NICU के हेड और वाइस प्रिंसिपल डॉक्टर कफील खान को हटा दिया गया. डॉक्टर महेश शर्मा को NICU का नया प्रमुख बनाया गया है. कफील के साथ SIC हेड रमाशंकर शुक्ला को भी हटा दिया गया.
 
उधर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने BRD के प्रिंसिपल राजीव मिश्रा को निलंबित किए जाने का विरोध किया और कहा कि स्थानीय प्रशासन पर भी कार्रवाई होनी चाहिए. BRD अस्पताल के निलंबित प्रिंसिपल राजीव मिश्रा ने इंडिया न्यूज़ से बातचीत करते हुए खुद को निर्दोष बताया. उन्होंने सारा दोष ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी पर मढ़ दिया. सरकार भले ही कह रही हो को ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की मौत नहीं हुई लेकिन इंडिया न्य़ूज की पड़ताल में खुलासा हुआ है कि बच्चों की मौत ऑक्सीजन की कमी से हुई. इंडिया न्यूज ने अस्पताल के ऑक्सीजन प्लांट का दौरा किया तो पाया कि प्लांट में लिक्विड ऑक्सीजन की मात्रा जीरो थी. प्लांट में लगा मीटर इसकी गवाही दे रहा था.
ये भी पढ़ें:
ये भी पढ़ें: