गोरखपुर: उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को गोरखपुर घटना का जायजा लेने के लिए बाबा राघवदास मेडिकल कालेज अस्पताल पहुंचें. बीते तीन दिन में 60 बच्चों की मौत की घटना पर भाभुक स्वर में सीएम योगी ने कहा कि जिनकी संवेदनाएं स्वयं मर चुकी हैं, वे इस संवेदनशील विषय पर राजनीति कर रहे हैं.
 
गोरखपुर की घटना पर प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम इस निष्कर्म पर पहुंचे हैं कि पूरे प्रकरण की जांच जरूरी है. इसलिए चीफ सेक्रटरी की अध्यक्षता में एक कमिटी बनाई गई है, जो बीआरडी अस्पताल में हुईं मौत के कारणों का पता लगाएगी.
 
उन्होंने कहा कि UP में किसी की भी लापरवाही से अगर किसी की जान जाएगी तो उस पर कड़ी कार्रवाई होगी. दोषियों को किसी हाल में बख्शा नहीं जाएगा. साथ ही कहा कि मैं पत्रकारों को वॉर्ड तक जाकर देखने की सुविधा दूंगा, आप खुद देखिए कि क्या हाल है.
 
 
उन्होंने कहा कि सीएचसी में इंसेफलाइटिस से इलाज की व्यवस्था हुई है, मैंने यह लड़ाई सड़क से लेकर संसद तक लड़ी है. बता दें कि इससे पहले सीएम योगी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा के साथ अस्पताल के इन्सेफलाइटिस वार्ड को देखने गये, जहां कथित रूप से आक्सीजन की आपूर्ति बाधित होने के कारण सात अगस्त से 11 अगस्त के बीच 60 मासूमों की मौत होने की बात राज्य सरकार ने खुद कबूली है. 
 
 
इससे पहले मुख्यमंत्री और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने अस्पताल में मरीजों को देखा और डाक्टरों से बातचीत की. दोनों ने अस्पताल में आक्सीजन की आपूर्ति के इंतजामों के साथ ही वहां अन्य सुविधाओं का भी जायजा लिया. नड्डा और योगी के साथ राज्य के शिक्षा चिकित्सा मंत्री आशुतोष टंडन और मुख्य सचिव भी मौजूद थे.