मुंबई. मुंबई ब्लास्ट के दोषी याकूब मेमन की अंतिम यात्रा को मीडिया कवरेज न मिले इसके लिए मुंबई पुलिस ने गैग आर्डर जारी किया था. आपको बता दें कि मुंबई पुलिस ने किसी भी तरह का जोखिम न लेते हुए गुरुवार को याकूब मेमन की रस्म-ए-जनाजा की फोटोग्राफी व वीडियोग्राफी न करने का मीडिया को आदेश जारी किया था.

इसी के बाद से सभी टेलीविजन चैनल्स पर से याकूब की कवरेज गायब हो गयी. आदेश में कहा गया था कि शांति भंग होने व सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचने की आशंका के मद्देनजर यह आदेश जारी किया गया है.  यहां तक कि कुछ टेलीविजन चैनलों ने एक नोटिस भी जारी किया जिसमें कहा गया कि वे अंत्येष्टि की तस्वीरें जारी नहीं कर सकते, क्योंकि मेमन एक देशद्रोही था और वे उसकी अंत्येष्टि का प्रसारण कर उसे नायक नहीं बनाएंगे.

उल्लेखनीय है कि वर्ष 1993 में मुंबई में सिलसिलेवार बम विस्फोटों के दोषी याकूब मेमन को गुरुवार सुबह 6.35 बजे नागपुर सेंट्रल जेल में फांसी दे दी गई. याकूब के शव को उसके परिजनों को सौंप दिया गया, जहां से उसे मुंबई लाया गया. मुंबई में ही उसे दफनाया गया.

IANS