नई दिल्ली. मुंबई में 1993 के बम ब्लास्ट के दोषी याकूब मेनन की फांसी पर स्टे की याचिका को खारिज करने वाले जजों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. इससे पहले  
जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की  बेंच ने आज सुबह याकूब को किसी भी तरह की राहत देने से इनकार कर किया गया था.

आज सुबह रुम नंबर 4 में सुनवाई करते हुए जस्टिस मिश्रा ने  कहा था कि  फांसी पर स्टे नाइंसाफी होगी याचिका खारिज की जाती है. याकूब को आज नागपुर जेल में सुबह ही फांसी दे दी गई. आज ही मुंबई के बड़ा कब्रिस्तान में याकूब का अंतिम संस्कार किया जाएगा.