नागपुर. याकूब की फांसी को लेकर मुंबई के साथ ही नागपुर में भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने खुद डीजीपी और मुंबई पुलिस कमिश्नर के साथ बैठक की. इस बीच नागपुर सेंट्रल जेल में फांसी की तैयारियां तेज कर दी गई हैं. सूत्रों की मानें तो जल्लाद पहुंच गया है.

2012 में कसाब को रिटायर्ड जल्‍लाद ने फांसी पर लटकाया था. याकूब मेमन को कल दी जाने वाली फांसी पर पूरे देश की नज़र है तो वहीं नागपुर सेंट्रल जेल और उसके आस-पास के इलाके में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. सुप्रीम कोर्ट से फांसी का रास्ता साफ होने की खबर मिलते ही नागपुर की पुलिस और जेल प्रशासन दोनों चौकन्ना हो गए हैं.

सूत्रों के मुताबिक याकूब को नागपुर जेल की उस खास सेल में भेज दिया गया है.जहां फांसी से पहले कैदियों को रखा जाता है.  इस सेल में ऐसी कोई भी चीज नहीं रखी जाती, जिससे कैदी खुद को नुकसान पहुंचा सके.

क्या होगा आज ?
सूत्रों के मुताबिक, कल यानी 30 जुलाई की सुबह 7 बजे याकूब को फांसी दी जाएगी

-याकूब को फांसी दिए जाने की प्रक्रिया लगभग 3 घंटे तक चलेगी.

-तड़के 4 बजकर 15 मिनट पर उसे जगाया जाएगा.

-नहाने के बाद उसे पहनने के लिए नए कपड़े दिए जाएंगे.

-सुबह 5 बजकर 15 मिनट पर उसकी मेडिकल जांच की जाएगी.

-उसे खाने के लिए नाश्ता दिया जाएगा.

सुबह साढ़े 5 बजे उसे पढ़ने के लिए मनपसंद धार्मिक किताब दी जाएगी.

-सुबह 6 बजकर 15 मिनट पर उसे धर्म के अनुसार प्रार्थना करने को कहा जाएगा.

-सुबह साढ़े 6 बजे उसके हाथों में हथकड़ी पहनाई जाएगी और फांसी स्थल की तरफ ले जाया जाएगा.

-15 मिनट बाद सुबह 6 बजकर 45 मिनट पर याकूब को एक बार फिर बताया जाएगा कि किस गुनाह में उसे फांसी दी जा रही है.

-6 बजकर 55 मिनट पर उसका मुंह काले कपड़े से ढका जाएगा. और फिर सुबह 7 बजे मजिस्ट्रेट, जेल सुपरिटेंडेंट और मेडिकल अफसर समेत जेल के कुछ अधिकारियों की मौजूदगी में याकूब को फांसी पर लटका दिया जाएगा.