नई दिल्ली. याकूब मेमन की फांसी पर रोक लगाने के लिए याकूब के वकील एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं. प्रशांत भूषण समेत कुछ वकील चीफ जस्टिस के घर पहुंचे हैं और मिलने का वक्त मांगा है. 

याकूब मेनन के वकील महाराष्ट्र के राज्यपाल के फैसले के खिलाफ अपील कर रहे हैं. आर्टिकल 21 यानी जीवन के अधिकार के तहत यह अपील अगर स्वीकार हो जाती है तो देर रात इस पर सुनवाई हो भी सकती है.

याकूब के वकीलों का कहना है कि केस में नए तथ्यों पर विचार नहीं हुआ है और याकूब मानसिक रुप से बीमार है. इससे पहले मुंबई ब्लास्ट के आरोपी याकूब मेमन को अब कल फांसी देना तय हो गया है. राष्ट्रपति ने याकूब मेमन की दूसरी मर्सी पेटिशन भी ख़ारिज कर दी है.