नई दिल्ली: NDA की तरफ से केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू को उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनाया गया है. बीजेपी संसदीय दल की बैठक में नायडू के नाम पर फैसला किया गया है. कहा जा रहा था कि वेंकैया उपराष्ट्रपति प्रत्याशी बनने को राजी नहीं थे लेकिन बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने उन्हें इसके लिए मना लिया है. नायडू मंगलवार सुबह 11 बजे उपराष्ट्रपति पद के लिए नामांकन करेंगे.
 
बता दें कि उपराष्ट्रपति पद के लिए के लिए वेंकैया नायडू और बंडारू दत्तात्रेय रेस में सबसे आगे चल रहा था. बताया जा रहा है कि एनडीए की पसंद दक्षिण भारतीय ही हैं. इसके लिए नायडू को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया गया. बैठक के दौरान नायडू को मिठाई भी खिलाई गई. वह चार बार राज्यसभा के सांसद रह चुके हैं. वहीं नायडू मंगलवार सुबह 11 बजे शहरी विकास मंत्री और सूचना प्रसारण मंत्रालय के पद से इस्तीफा देंगे और उपराष्ट्रपति पद के लिए नामांकन करेंगे.
 
 
वहीं यूपीए ने महात्मा गांधी के परपोते गोपाल कृष्ण गांधी को अपना उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार पहले ही घोषित कर दिया है. वह 2004 से 2009 तक पश्चिम बंगाल के गवर्नर भी थे. उपराष्ट्रपति पद के लिए 5 अगस्त को चुनाव होगा और उसी दिन वोटों की गिनती भी की जाएगी. 
 
 
वेंकैया नायडू का जन्म 1 जुलाई 1949 को चावटपलेम, नल्लोर जिला, आंध्र प्रदेश के एक कम्मा परिवार में हुआ था. नेल्लोर से ही हाई स्कूल की पढ़ाई की और वीआर कॉलेज से राजनीति में स्नातक की पढ़ाई की. उसके बाद आंध्र विश्वविद्यालय, विशाखापत्तनम से कानून में स्नातक की डिग्री हासिल की.  पहली बार 1974 में वे आंध्र विश्वविद्यालय में छात्र संघ के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित हुए.