नई दिल्ली: सूखे की मार झेल रहे तमिलनाडु के किसान एक बार फिर से धरना देने के लिए दिल्ली पहुंच गए हैं. इन किसानों ने मार्च-अप्रैल में कर्जमाफी की मांग को लेकर राजधानी दिल्ली में एक खास तरीके से प्रदर्शन किया था.
 
तकरीबन 50 किसानों ने रविवार को दिल्ली में निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से लेकर लोक कल्याण मार्ग स्थित प्रधानमंत्री आवास तक विरोध मार्च निकालने के साथ-साथ अपनी मांगों को लेकर धरना भी दिया. बाद में मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे 50 से अधिक किसानों को हिरासत में भी ले लिया. 
 
 
बता दें कि प्रदर्शन कर रहे किसान केंद्र सरकार से राहत पैकेज और कर्ज माफी की मांग कर रहे हैं. पिछली बार लगातार 40 दिनों तक प्रदर्शन करने के बाद भी उनकी मांग को अनसुना कर दिया गया था. प्रदर्शनकारी किसानों की मांग है कि देश के सभी किसानों को पेंशन दी जाए और कावेरी वॉटर मैनेजमेंट बनाया जाए. 
 
 
इस कारण रहे सुर्खियों में
पहली बार 40 दिन तक चले प्रदर्शन में किसानों ने अपने अलग-अलग तरीके अपनाएं, जिस कारण ये सुर्खियों में भी रहे. जंतर-मंतर पर कुछ दिन भूख हड़ताल पर बैठे उसके बाद मानव कंकाल की खोपड़ी और हड्डियों के साथ अलग-अलग तरह से प्रदर्शन किए. 40 दिन चले प्रदर्शन के बाद वापस तमिलनाडु किसानों ने कहा भी था कि वो फिर लौट कर आएंगे.