नई दिल्ली : संसद का मानसून सत्र सोमवार (17 जुलाई) से शुरू होने जा रहा है. लेकिन सत्र के शुरू होने से पहले ही इसके हंगामेदार रहने के पूरे आसार है. कांग्रेस ने इशारों में केंद्र सरकार को समझा दिया है कि वो सरकार को मौजूदा मुद्दों पर घेरने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी.
 
16 जुलाई को सर्वदलीय बैठक के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि वो सोमवार से शुरु हो रहे मानसून सत्र में कश्मीर में जारी हिंसा, कश्मीर में सुरक्षा, पाकिस्तान, चीन से संबंधित मामले, गौरक्षा के नाम पर हिंसा, महिलाओं के साथ अपराध, आसाम में बाढ और किसान आत्महत्याओं के मामलों पर गंभीर परिचर्चा करेंगे.
 
 
वहीं संसद के मानसून सत्र से पहले रविवार (16 जुलाई) को आज लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के द्वारा मानसून सत्र से पहले बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में जेडीयू की ओर से कोई नेता शामिल नहीं हुआ है. जेडीयू नेता केसी त्यागी ने इस बारे में बताया कि शरद यादव समेत सभी सांसद बिजी हैं, इसलिए वो इस बैठक में शामिल नहीं हो सकें