हैदराबाद. 1993 बम धमाकों के दोषी याकूब मेमन की फांसी पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इतेहादुल मुसलमीन (AIMIM) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने सवाल उठाया है. भेदभाव का आरोप लगाते हुए गुरुवार को उन्होंने कहा कि मुस्लिम होने के कारण मेमन को फांसी दी जा रही है. इस बयान का विरोध करते हुए बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने औवेसी को पाकिस्तान जाने की सलाह दे दी है. बता दें कि पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट में मेमन की क्यूरेटिव पिटीशन खारिज हो गई थी, जिसके बाद उसे 30 जुलाई को फांसी दी जा सकती है.

ओवैसी ने क्या कहा 
ओवैसी ने कहा कि अगर फांसी देनी है, तो सभी दोषियों को दो. केवल धर्म के नाम पर फांसी मत दो. ओवैसी ने कहा, ”पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी और पंजाब के पूर्व चीफ मिनिस्टर बेअंत सिंह के हत्यारों को पॉलिटिकल प्रेशर के कारण फांसी नहीं दी जा रही है. तमिलनाडु और पंजाब में दोषियों को बचाया जा रहा है लेकिन याकूब मेमन को कौन सी पॉलिटिकल पार्टी सपोर्ट कर रही है? शिरोमणि अकाली दल ने पंजाब में बलवंत सिंह राजोना को बचाने के क्या-क्या नहीं किया.” हालांकि, ओवैसी ने स्पष्ट कहा कि वह मेमन के केस में कोर्ट के फैसले के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन जितने भी दोषी हैं, उन्हें फांसी होनी चाहिए.