नई दिल्ली : अब तक आपने राजधानी और शताब्दी जैसी सुपरफास्ट ट्रेन से सफर किया होगा लेकिन अब 22 मई 2017 से भारतीय रेलवे की पहली तेजस ट्रेन मुंबई और गोवा के बीच दौड़ेगी. आज रेल मंत्री सुरेश प्रभु इस ट्रेन का इंस्पेक्शन करेंगे. 
 
इस ट्रेन में यात्रियों को कई सेवाएं दी जाएगी जैसे कि ट्रेन में टी-कॉफी वेंडिंग मशीन के अलावा हर सीट पर एलसीडी स्क्रीन और वाई-फाई सर्विस दी जाएगी. इस कोच में 20 कोच होंगे सभी इस मॉडर्न फैसिलिटीज से लैस होंगे. इस ट्रेन की खास बात ये है कि इसके सभी कोच में ऑटोमेटिक डोर क्लोजिंग के साथ सुरक्षित गैंगवेज होंगे. बता दें कि फिलहाल ऑटोमेटिक डोर क्लोजिंग मेट्रो ट्रेन में ही उपलब्ध है. 
 
रेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि तेजस एक नई प्रीमियर क्लास ट्रेन है, यात्रियों के सफर को आरामदायक बनाने के लिए इसे चलाया जाएगा. इस साल रेल बजट में किए गए वादों के अनुसार, मुंबई-गोवा के बीच तेजस ट्रेन चलने के बाद दूसरी तेजस ट्रेन दिल्ली-चंडीगढ़ रूट पर चलाए जाने के आसार हैं. इस प्रीमियम ट्रेन का किराया दूसरी प्रीमियम ट्रेन से ज्यादा होगा.
 
तेजस ट्रेन में मिलेगी ये सुविधाएं
 
इस ट्रेन में टी और कॉफी वेंडिंग मशीनें, मैगजींस और स्नैक टेबल्स, LCD स्क्रीन, बायो-वैक्यूम टॉयलेट्स में वाटर लेवल इंडीकेटर्स, सेंसर्ड टैप और हैंड ड्रायर्स (हाथ को सुखाने वाली मशीनें) लगी होंगी.
 
एग्जीक्यूटिव क्लास और चेयर कार वाली तेजस एक्सप्रेस में कैटरिंग सर्विस राजधानी और शताब्दी ट्रेनों की तरह होगी. इसके कोच में 22 नए फीचर्स हैं, इनमें आग और धुएं का पता लगाने वाला और उन्हें रोकने वाला सिस्टम भी शामिल है.