नई दिल्ली : एक जुलाई 2017 से जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) लागू होने पर आम जनता पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा यही आज हम आपको अपनी खबर के माध्यम से बतान जा रहे हैं. 
 
गुरुवार को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में जीएसटी कांउसिल की दो दिवसीय बैठक के पहले दिन वस्तुओं को चार दरों में विभाजित किया गया है, 5 फीसदी, 12 फीसदी, 18 फीसदी और 28 फीसदी की दर में बांटा गया है. इन दरों को इस तरह तय किया गया है कि अगर जीएसटी लागू हो तो महंगाई न बढ़े. एसी, रेफ्रिजरेटर को 28 फीसदी की श्रेणी में रखा गया है. 
 
 
क्या होगा सस्ता
 
रोजमर्रा की चीजें सस्ती होने से आम जनता को राहत मिलेगी. अनाज, हेयर ऑयल, साबुन और कोयला जैसी वस्तुएं सस्ती हो सकती हैं. अगर कोयला सस्ता होता है तो बिजली लागत भी कम हो जाएगी.
 
चीनी, चाय, काफी और खाद्य तेल को पांच फीसदी की दर में रखा गया है. गेंहु, चावल, अनाज और दूध-दही जैसी आवश्यक चीजों को भी जीएसटी से छूट दी गई है. जीवन रक्षक दवाओं पर पांच फीसदी जीएसटी लगेगा.
 
क्या होगा महंगा
 
सोना, चांदी और महंगी कारें जैसी इस्तेमाल की जाने वाली चीजें जीएसटी लागू होने पर महंगी हो सकती हैं.  छोटी कारों पर 28 प्रतिशत की दर के साथ एक प्रतिशत का उपकर (सेस), मध्यम आकार की कारों पर तीन प्रतिशत का उपकर(सेस), लग्जरी कारों पर 15 प्रतिशत का उपकर (सेस) लगेगा.
 
 
 
क्या है GST
 
GST का मतलब गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स है, जीएसटी पूरे देश के लिए इनडायरेक्‍ट टैक्‍स है, जो भारत को एक समान बाजार बनाएगा. जीएसटी लागू होने पर सभी राज्यों में लगभग सभी गुड्स एक ही कीमत पर मिलेंगे.