नई दिल्ली. जनता दल (यू) बीते रविवार को कहा है कि जनता परिवार के दलों का विलय जल्दी ही होगा और मुलायम सिंह यादव इसके अध्यक्ष होंगे. जद (यू) अध्यक्ष शरद यादव के अनुसार यह बहुप्रतीक्षित विलय होना तय है. केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद से ही जनता परिवार के कई दलों ने एक साथ मिलकर एक नया दल बनाने की क़वायद शुरू कर दी थी ताकि केंद्र सरकार को संसद के फ्लोर पर बढ़िया सके और देश में तीसरे राजनीतिक विकल्प को मजबूत किया जा सके.

माना जा रहा है कि यह विलय इसी हफ्ते अस्तित्व में आ सकता है. सपा सुप्रीमो जल्द ही अन्य दलों के नेताओं के साथ बैठक करने वाले हैं जिसके बाद नए दल की औपचारिक घोषणा कर दी जाएगी. मुलायम  भी इन्हीं नेताओं के बैठकों में व्यस्त रहे. इस बैठक में राजद प्रमुख लालू प्रसाद, जद (एकी) अध्यक्ष शरद यादव और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हिस्सा लिया.

खबर है कि अब पार्टी के झंडे, चिन्ह और घोषणापत्र को लेकर कोई मतभेद नहीं है और इस पर अन्य दलों की सहमति भी बन गयी है. लोकसभा में इन दलों के केवल 15 सदस्य हैं. राज्यसभा में सपा के 15 सदस्य, जद (एकी) के 12 व इनेलो, जद (एस) और राजद के एक-एक सदस्य हैं. ऊपरी सदन में इस तरह इनके 30 सदस्य हो जाते हैं.