बुंदेलखंड: योगी ने यूपी के सर्वाधिक पिछड़े इलाके बुंदेलखंड में मात्र दो घंटे में एक के बाद एक कई जगहों पर औचक निरीक्षण किया और अधिकारियों की जोरदार क्लास लगाई. इस दौरान वो एक स्कूल के निरीक्षण के लिए पहुंचे. बच्चों से सवाल जवाब किया और पूछा कि उन्हें खाने में क्या दिया जाता है? 
 
एक सरकारी प्राइमरी स्कूल, जहां पढ़ रहे बच्चों से प्रदेश के मुख्यमंत्री ने बात की. पढ़ाई से तो सीएम संतुष्ट नजर आए लेकिन जब वो मिड-डे मील का कमरा देखे तो नाराज हो गए. स्कूल में बच्चों को दिए जा रहे सरकारी पुष्टाहार की व्यवस्था से उन्होंने अपनी असंतुष्टि जाहिर की. बुंदेलखंड के इस दौरे में मुख्यमंत्री के साथ उनके दो मंत्री महेंद्र सिंह और स्वतंत्र देव सिंह भी हैं.
 
सीएम योगी को देखकर बच्चे हैरान थे. लेकिन स्कूल के टीचर, प्रिंसिपल और जिले के सभी अफसर सतर्क थे. योगी कब…क्या…और किससे पूछ बैठें…किसी को नहीं पता था लेकिन एक छात्रा ने योगी के सामने जो कुछ कहा. उसे देखकर योगी मुस्कुरा उठे. 
 
योगी सर की पाठशाला 
योगी- ये कौन सी क्लास है ?
टीचर-
कक्षा 4
योगी- 
कितने बच्चे हैं इस क्लास में ?
टीचर-
सर 36
टीचर-
इस समय 20 उपस्थित हैं, वैसे 36 हैं
योगी- 
आज कितने बच्चे उपस्थित हैं ?
टीचर-
20 सर.
योगी- 
फर्नीचर वगैरह सब है यहां पर ?
टीचर- 
सर ये डोनेशन में मिला है.
योगी- 
कब से मिला है ये ?
टीचर- 
सर अभी अप्रैल में आया है.
योगी- 
क्या नाम है जी…?
योगी- 
कौन क्लास में पढ़ती है ? योगी- तुम्हारी किताब कहां है ? 
टीचर- 
ये है सर… मेरे साथ में है.
 
जिस बुंदेलखंड में सीएम योगी पहुंचे हैं, वहां के स्कूल और वहां के बच्चों की पढ़ाई की शिक्षा का स्तर क्या है. ये जानने-समझने के लिए इंडिया न्यूज़ ने एक पड़ताल की थी. यहां अध्यापकों को देश के राष्ट्रपति के नाम भी पता नहीं था. सीएम योगी को बुंदेलखंड दौरे पर जाना था. इस दौरान जिस स्कूल में जाना था. वो तय हो गया था इसलिए बच्चों को सामान्य ज्ञान का रट्टा पहले ही लगवा दिया गया था.और इसीलिए सीएम योगी के सामने जैसे ही मंडल के कमिश्नर ने एक बच्ची से सीएम का नाम पूछा. उसने तपाक से सही-सही जवाब दे दिया.
 
कमिश्नर-
साहब जी कौन हैं ?
छात्रा-
मुख्यमंत्री
कमिश्नर-
नाम क्या है ? 
छात्रा-
सीएम योगी आदित्यनाथ
हालांकि इस दौरान, योगी आदित्यनाथ ने बच्चों से ये भी पूछा कि उन्हें खाना वगैरह मिलता है कि नहीं. 
छात्रा-
यस सर
योगी- 
क्या देते हैं ? 
छात्रा-
सोमवार को रोटी-सब्जी मिलती है.
 
अंदर की बात ये है कि योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश में अगले दो साल में मॉडल शिक्षा प्रणाली लागू करने का वादा किया है. योगी अब जमीन स्तर पर जाकर देख रहे हैं कि आखिर किस हद तक सुधार की ज़रूरत है. इसकी शुरुआत उन्होंने बुंदेलखंड से की जहां बीजेपी को इस बार सभी सीटों पर जीत मिली थी.