नई दिल्ली: 38 दिनों से दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना प्रदर्शन कर रहे तमिलनाडु के किसानों ने धमकी दी है कि अगर सरकार ने उनकी मांगे नहीं मानी तो रविवार को वो अपना ही मल खाने और मूत्र पीने पर मजबूर हो जाएंगे. इन किसानों ने प्लास्टिक की बोतल में मूत्र जमा किया हुआ है और सरकार को धमकी दी है कि दो दिनों के भीतर इनके मुद्दे को सुलझाया जाए.
 
गौरतलब है कि पिछले दिनों इन किसानों ने नग्न होकर प्रदर्शन किया था. कई इंसानी खोपड़ी लेकर जंतर मंतर पर बैठे इन किसानों का कहना है कि ये उन किसानों की खोपड़ी है जिन्होंने लाचारी में आत्महत्या की है. ये किसान जंतर मंतर पर चूहे और सांप को मुंह में लेकर बैठे हैं और उनका कहना है कि उनके पास खाने के लिए कुछ नहीं है. 
 
प्रदर्शनकारी किसानों में से एक पी अयक्कानु ने कहा कि तमिलनाडु में हमें पीने का पानी नहीं मिलता है. पीएम मोदी हमारी प्यास को अनदेखा कर रहे हैं इसलिए हम अपनी ही पेशाब से अपनी प्यास बुझाने पर मजबूर हो रहे हैं.  
 
बुधवार को तमिलनाडु के एकमात्र बीजेपी सांसद पोन राधाकृष्णन से मिलने के बाद किसानों ने तीन दिन शांतिपूर्वक प्रदर्शन करने का फैसला किया है. उनका कहना है कि रविवार तक अगर सरकार कोई फैसला नहीं करती है तो वो अपना ही मल खाएंगे और पेशाब पीएंगे.