लखनऊ: तीन तलाक की पीड़ित महिलाओं की मदद के लिए योगी सरकार ने बड़ा फैसला किया है. यूपी सरकार ने ऐसी महिलाओं के लिए आश्रम खोलने का फैसला किया है, जो तीन तलाक से पीड़ित हैं. पीड़ित महिलाओं के रहने और खाने-पीने के साथ, उनके बच्चों की शिक्षा की व्यवस्था होगी. साथ ही उनको सिलाई, कंप्यूटर और स्व-रोजगार की भी सुविधा दी जाएगी.
 
ये भी पढ़ें:
 
योगी के सीएम बनने के बाद तीन तलाक पीड़ित कई महिलाओं ने उनसे मदद की गुहार की थी. माना जा रहा है कि इसी के बाद योगी सरकार ने आश्रम खोलने का फैसला किया है. तीन तलाक पीड़ित महिलाओं ने उनके लिए आश्रम खोलने के सीएम योगी के फैसले पर उन्हें थैंक्यू कहा है. इंडिया न्यूज से बातचीत में उन्होंने इस फैसले की सराहना की है.
 
ये भी पढ़ें:
 
योगी सरकार ने इन महिलाओं के लिए वैसे ही आश्रम खोलने का फैसला किया है जैसे आश्रम विधवाओं के लिए बने हुए हैं. ऐसे आश्रमों में पीड़ित महिलाओं के रहने और खाने पीने के साथ उनके बच्चों की शिक्षा की व्यवस्था होगी. साथ ही उनको सिलाई, कंप्यूटर और स्व-रोजगार की भी सुविधा दी जाएगी ताकि वो फिर से अपने पैरों पर खड़ी हो सकें.
 
ये भी पढ़ें:
 
योगी सरकार पूरे यूपी में इस तरह के आश्रम बनाने जा रही है, इसके लिए वह वक्फ की जमीन की जांच पड़ताल कर रही है. बता दें कि योगी आदित्यनाथ ने तीन तलाक को द्रोपदी के चीर हरण से तुलना की थी. उन्होंने कहा था कि तीन तलाक महिलाओं के अधिकारों का हनन है, फिर भी इस मुद्दे पर कुछ लोगों का मुंह बंद है, ऐसे लोग अपराधी की तरह हैं.